पद्म पुरस्कार पर रामदेव के नाम पर विचार नहीं गया था किया :आर टी आई

  • पद्म पुरस्कार पर रामदेव के नाम पर विचार नहीं गया था किया :आर टी आई
  • सलीम खान, पूर्व राजनयिक के एस बाजपेई, आध्यात्मिक गुरु श्री रवि शंकर, मोहम्मद बुराहनुद्दीन और माता अमृतानंदमयी ने पद्मा पुरस्कार स्वीकार करने से  कर दिया था इनकार

 

पद्म पुरस्कार पर रामदेव के नाम पर विचार नहीं गया था किया :आर टी आई

पद्म पुरस्कार पर रामदेव के नाम पर विचार नहीं गया था किया :          आर टी आई

नई दिल्ली : जाने माने फिल्म कथाकार सलीम खान, पूर्व राजनयिक के एस बाजपेई और आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रवि शंकर, मोहम्मद बुराहनुद्दीन और माता अमृतानंदमयी ने पद्म पुरस्कार स्वीकार करने से इनकार कर दिया था, जबकि बाबा रामदेव पर इस पुरस्कार के लिए विचार नहीं किया गया था। एक आरटीआई के जवाब में यह जानकारी सामने आई है।

आवेदन के जरिए उन लोगों के नाम मांगे गए थे, जिनका चुनाव नागरिक पुरस्कार के लिए किया गया था, लेकिन उन्होंने इसे लेने से मना कर दिया था। इस पर गृहमंत्रालय ने कहा कि सलीम खान, पूर्व राजनयिक के एस बाजपेई, आध्यात्मिक गुरु श्री रवि शंकर, मोहम्मद बुराहनुद्दीन और माता अमृतानंदमयी ने पद्मा पुरस्कार स्वीकार करने से इनकार कर दिया था।

कार्यकर्ता सुभाष अग्रवाल को दिए आरटीआई जवाब में मंत्रालय ने उन्हें वेब साइट रेफर की है जिस पर उन लोगों की सूची थी जिनके नामों कर पद्म पुरस्कार के लिए विचार किया गया था और जिन्हें अंतिम सूची में शामिल किया गया था, लेकिन इसमें योग गुरू बाबा रामदेव का नाम नहीं है।

गौरलतब है कि 26 जनवरी 2015 को पुरस्कार दिए जाने से दो दिन पहले रामदेव ने दावा किया था कि उन्होंने पुरस्कार स्वीकार करने से मना करने के लिए गृहमंत्री राजनाथ सिंह को पत्र लिखा है क्योंकि उन्हें जानकारी मिली थी कि उनके नाम पर विचार किया गया है।

मंत्रालय ने अपने जवाब में कहा है, ‘पद्म पुरस्कार समिति की बैठक 31 अक्तूबर, पांच दिसंबर और 13-14 दिसंबर 2014 को दो दिन के लिए आयोजित हुई थी। बैठक के मिनटों को संभाल कर नहीं रखा गया है।’मंत्रालय ने उन लोगों के बारे में जानकारी देने से इनकार कर दिया जिनके नामों की सिफारिश की गई थी, लेकिन सीबीआई, आईबी और कर प्राधिकारियों जैसी एजेंसियों की आपत्ति की वजह से उनपर चर्चा नहीं की गई। मंत्रालय ने कहा कि ऐसी एजेंसियों से प्राप्त जानकारियां गुप्त प्रकृति की होती हैं और आरटीआई के तहत नहीं दी जा सकती हैं।

इसमें कहा गया है कि खोज समिति की बैठक 21 अगस्त 2014 और आठ सिंतबर 2014 को हुई थी। रामदेव ने हाल ही में यह कहकर विवाद पैदा कर दिया था कि पद्म पुरस्कार के लिए लाबिंग होती है।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *