गरीबों के लिए हुआ याचिका दाखिल करना आसान

झूठी शिकायत करने पर दस हजार रूपए का जुर्माना

शिमला: हिमाचल प्रदेश राज्य उपभोक्ता आयोग के अध्यक्ष न्यायमूर्ति सुरजीत सिंह ने राज्य उपभोक्ता आयोग में दायर याचिका पर अपना फैसला सुनाते हुए शिकायत कर्ता योगेश चन्द्र को आरियंटल बीमा कम्पनी के खिलाफ झूठी शिकायत करने के लिए दस हजार रूपए बतौर खर्चा अदा करने को कहा है।

आयोग के अध्यक्ष ने बताया कि योगेश चंद्र, सरकाघाट जिला मंडी के गांव सतेहर निवासी ने 17 जुलाई, 2013 को अपने मकान का बीमा 10 वर्षाे के लिए मु0 30 लाख में करवाया था, जो 19 जुलाई, 2013 को भारी वर्षा व भूस्खलन की वजह से क्षतिग्रस्त हो गया। शिकायत कर्ता द्वारा 20 अगस्त, 2014 को ओरिएंटल इंश्योरैंस कम्पनी के खिलाफ शिकायत दर्ज की गई।

शिकायत कर्ता ने बीमा कम्पनी को अपने मकान के क्षतिग्रस्त होने की सूचना दी तथा मुआवजे की मांग की, जिसे बीमा कम्पनी ने देने से इंकार किया। बीमा कम्पनी ने स्पष्ट किया कि शिकायतकर्ता ने बीमा करवाते समय बहुत से तथ्यों को छिपाया है इसलिए वह मुआवजे का हकदार नहीं है।

राज्य उपभोक्ता आयोग के अध्यक्ष न्यायमूर्ति सुरजीत सिंह ने दोनों पक्षों के साक्ष्यों व तथ्यों की जांच के उपरांत अपने फैसले में स्पष्ट किया कि शिकायतकर्ता, योगेश चन्द्र ने 17 जुलाई, 2013 को मकान का बीमा करते हुए विभिन्न तथ्यों को छिपाया।  मनु अवरोल लोक निर्माण विभाग के साथ बतौर ठेकेदार पंजीकृत है तथा बीमा कम्पनी के विकास अधिकारी गुलेर सिंह ने मकान का निरीक्षण व सत्यापन किए बिना ही श्री मनु अबरोल के कहने पर बीमा कर दिया। साक्ष्यों से यह भी साबित हुआ है कि बीमा राशि दिनांक 17 जुलाई 2013 को ठेकेदार मनु अबरोल ने अपनी जेब से जमा करवाई ।

बीमा का कवर नोट 17 जुलाई, 2013 का है, व बीमा की किश्त जमा करने से पहले ही जारी कर दिया गया था तथा 19 जुलाई, 2013 को दो दिन के बाद ही मकान क्षतिग्रस्त हो गया। जिससे यह स्पष्ट होता हेै कि शिकायत झूठी है। आयोग ने शिकायतकर्ता, योगेश चन्द्र की शिकायत को झूठा साबित करते हुए उपभोक्ता अधिनियम की धारा 26 के तहत

मू.10 हजार रू0 बतौर खर्चा रदद किया है ।उन्होंने इस फैेसले की एक सत्यापित प्रति मुख्य अभियंता, हिमाचल प्रदेश लोक निर्माण विभाग को इस आशय के साथ भेजी है कि वह शिकायतकर्ता योगेश चन्द्र के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्यवाही अमल में लाई जाये। शिकायतकर्ता लोक निर्माण विभाग में बतौर सहायक अभियंता कार्यरत है। उक्त अधिकारी ने अपनी शक्तियों का दुरूपयोग करते हुए लोक निर्माण विभाग के ठेकेदार मनु अबरोल व बीमा कम्पनी के विकास अधिकारी गुलेर सिंह की मिलीभगत से बीमा पालिसी खरीदी व बीमा कम्पनी से मू0 30 लाख रूपए हड़पने का प्रयास किया।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *