हमें अपनी संस्कृति और वैज्ञानिक उपलब्धियों पर गर्व होना चाहिए : कुणाल सत्यार्थी

हमें अपनी संस्कृति और वैज्ञानिक उपलब्धियों पर गर्व होना चाहिए : कुणाल सत्यार्थी

  • नौणी विवि में 25वीं बाल विज्ञान कांग्रेस का समापन, विज्ञान प्रोजेक्ट्स के लिए नवाजे छात्र
  • विज्ञान स्किट प्ले कॉम्पटिशन में जिला कुल्लू प्रथम स्थान पर
  • नौणी विवि के उप कुलपति डॉ. शर्मा ने जीवन की आम समस्याओं का समाधान प्रकृति में खोजने का दिया सुझाव
  • डॉ. खोसला ने सभी छात्रों को विज्ञान को एक कैरियर के रूप में अपनाने पर दिया ज़ोर

नौणी : राज्य स्तर की बाल विज्ञान कांग्रेस का रजत जयंती संस्करण का आज नौणी स्थित डॉ. वाईएस परमार औद्यानिकी और वानिकी विश्वविद्यालय में समापन हुआ। इस अवसर पर एपीजी विश्वविद्यालय के उप कुलपति डॉ तेज़ प्रताप मुख्य अतिथि रहे।

नौणी विवि के उप-कुलपति डॉ. एचसी शर्मा, सीएसआईआर के निदेशक (एनसीएसटीसीई) डॉ. मनोज परटेरिया, डॉ. बीके त्यागी और शूलिनी विवि के उप-कुलपति डॉ.पी.के खोसला ने गेस्ट ऑफ ऑनर के रूप में शिरकत की। सोलन उपायुक्त राकेश कंवर और एसपी मोहित चावला ने भी कार्यक्रम में भाग लिया। हिमाचल प्रदेश में स्कूली छात्रों का यह सबसे बड़ा विज्ञान कार्यक्रम है, जिसमें विभिन्न जिलों से प्रतियोगिता जीतकर छात्र इस कांग्रेस के लिए चुने गए हैं। इस बार इस प्रोग्राम में 11 जिलों से लगभग 1000 छात्र और शिक्षक भाग ले रहे हैं। इस साल इस कांग्रेस का विषय ‘सतत विकास के लिए विज्ञान, प्रौद्योगिकी और नवाचार’ था।

सभा को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि ने सभी छात्रों को उनके नायाब विचारों को साइन्स के माध्यम से मॉडल के रूप में प्रस्तुत करने के लिए सराहना की। नौणी विवि के उप कुलपति डॉ. एचसी शर्मा ने प्रतिभागियों को जीवन की आम समस्याओं का समाधान प्रकृति में खोजने का सुझाव दिया। उन्होंने कहा कि हमें उन तकनीकों और आविष्कारों पर काम करने की जरूरत है, जिसका फायदा सभी वर्गों के ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को मिल सके। इस मौके पर डॉ. खोसला ने सभी छात्रों को विज्ञान को एक कैरियर के रूप में अपनाने पर ज़ोर दिया। छात्रों को अपने व्याख्यान सोलन उपायुक्त राकेश कंवर ने विफलता को सही तरीके से संभालना और किसी भी कॉम्पटिशन, विशेष रूप से परीक्षा का, कोई भी दबाव अपने ऊपर न लेने के सुझाव दिए।

हिमकोस्ट के संयुक्त सदस्य सचिव कुणाल सत्यार्थी ने अपने संबोधन में सभी विद्यार्थियों को अपने देश के वैज्ञानिकों की उपलब्धियों के बारे में जानने का सुझाव दिया। उन्होंने कहा कि हमें अपनी संस्कृति और वैज्ञानिक उपलब्धियों पर गर्व होना चाहिए। हर चीज़ को दूसरे ढंग से करने और प्रश्न करने की आदत डालने की बात उन्होंने कही।

हिमाचल प्रदेश काउंसिल फॉर साइंस, टेक्नोलॉजी एंड एनवायरनमेंट (HIMCOSTE) ने यह आयोजन नेशनल काउंसिल फॉर साइंस एंड टेक्निकल कम्युनिकेशन और हिमाचल प्रदेश डिपार्टमेंट ऑफ एजुकेशन के साथ मिलकर किया। चार दिवसीय कार्यक्रम के दौरान, छात्रों ने विज्ञान के मॉडल, प्रश्नोत्तरी, गणित ओलंपियाड, वैज्ञानिक रिपोर्टिंग, गतिविधि कोर्नर और वैज्ञानिक विषयों पर आधारित स्किट (skit) में भाग लेंगे। वैज्ञानिक रिपोर्टिंग, मॉडल और स्किट में प्रथम और द्वितीय स्थान हासिल करने वाले छात्रों को राष्ट्रीय स्तर की गतिविधि में भाग लेने का मौका मिलेगा।

विज्ञान स्किट प्ले कॉम्पटिशन में जहां जिला कुल्लू ने प्रथम स्थान हासिल किया, वहीं सोलन और चंबा दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे। क्विज कॉम्पटिशन में हमीरपुर जिले के छात्रों को संयुक्त रूप से चैम्पियन घोषित किया गया। साइन्स मॉडल में चंबा जिले के जीएसएसएस चोवारी के छात्र अंकित ने बेहतर जीवन शैली मॉडल में बाज़ी मारी। गीता आदर्श विद्यालय सोलन से अंकिता का बहु उपयोगिता वाहन दूसरे और मिनेरवा पब्लिक स्कूल की छात्रा मानया नड्डा रेलवे सेफ्टी सिस्टम तीसरे स्थान पर रहा।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *