नदियों में कालाधन बहाने वालों को और जिनकी हो रही जांच उनको हुई नोटबंदी से समस्या, आम नागरिक को नहीं हुई समस्या : धूमल

नदियों में कालाधन बहाने वालों को और जिनकी हो रही जांच उनको हुई नोटबंदी से समस्या, आम नागरिक को नहीं हुई समस्या : प्रो. धूमल

  • पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा नोटबंदी के दौरान कांग्रेस को मौका नहीं मिला इसलिए कर रहे राजनीति

अंकुश दत्त शर्मा/हमीरपुर : नदियों में अपना काला धन बहाने वालों को या फिर जिनकी जांच हो रही है, केवल उन लोगों को ही नोटबंदी से समस्या हुई है। आज यहां जारी प्रेस विज्ञप्ति में यह बात पूर्व मुख्यमंत्री प्रो. प्रेम कुमार धूमल ने कही। पूर्व मुख्यमंत्री प्रो. प्रेम कुमार धूमल ने कहा है कि मोदी सरकार द्वारा लिए गए नोटबंदी के ऐतिहासिक फ़ैसले को आज एक साल पूरा हो गया है और नोटबंदी से आम नागरिक को कोई समस्या नहीं हुई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अभी हाल ही में फिर कहा है कि आगे भी काला धन धारकों पर कठोर कार्रवाई जारी रहेगी। भाजपा इसके लिए पूर्ण रूप से प्रतिबद्ध है।

प्रेम कुमार धूमल ने कहा कि नोटबंदी को लेकर कांग्रेस कह रही है कि इसमें गड़बड़ हुई है, वास्तव में कांग्रेस को मौका नहीं मिला था तो अब कांग्रेस इस पर राजनीति कर रही है। पूरे देश में नोट बंदी को पूरा समर्थन देश की जनता ने दिया था। देश के आम नागरिक ने इतिहास में पहली बार काले धन के ऊपर की गये इस कठोर फैंसले का स्वागत किया था तथा आम नागरिक ने नोट बंदी को लेकर ख़ुशी व्यक्त की थी। प्रो. धूमल ने कहा कि नोट बंदी के फ़ैसले का कोई भी विपरीत असर हिमाचल प्रदेश में नहीं हुआ। न कोई एटीएम के आगे लाइनें लगी, न कोई अराजकता का माहौल फैला। सभी लोगों ने इस कड़े क़दम का समर्थन किया और शांति से अपने पुराने नोट बदलवाये। नुक़सान हुआ तो केवल कांग्रेस वालों का जिनका काला धन इसके नष्ट हो गया। आज नोटबंदी के एक साल बाद भी कांग्रेस अपनी कुंठा से उबर नहीं पायी है और व्यर्थ ही आज काला दिन मना रही जबकि जनता का इनको बिलकुल भी समर्थन नहीं है।

प्रो. धूमल ने कहा कि नोटबंदी के तुरंत बाद भाजपा ने उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड चुनावों में बड़ी जीत प्राप्त की और प्रदेश में भी शिमला नगर निगम चुनावों में भी ऐतिहासिक विजय प्राप्त की। इससे साफ़ साबित होता कि  जनता ने इस फ़ैसले का ख़ूब समर्थन किया। उन्होंने आगे कहा कि नोटबंदी के कारण सरकार की आय बढ़ी, आज तक सबसे ज़्यादा काला धन बाहर आया, डिजिटल लेन देन में बढ़ोतरी हुई। उन्होंने कहा कि नोट बंदी की कारवाही के कारण देश भर में दो लाख से ज्यादा शेल कम्पनियों का पता चला पाया है। उन्होंने कांग्रेस को सलाह दी कि वे अपनी ऊर्जा सकारात्मक विरोध में ख़र्च करे न कि बेतुक मुद्दों पर।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *