एम्स के निर्माण को केन्द्रीय कैबिनेट द्वारा मंजूरी देने पर जताया आभार

सरकार किसान-बागवान विरोधी : सत्ती

शिमला: भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सतपाल सत्ती ने वीरभद्र सिंह की सरकार को किसान-बागवान विरोधी करार दिया। पाँच वर्षों में सरकार ने करोड़ों रुपये बन्दरों की नसबन्दी पर खर्च कर दिए। अनेकों केन्द्र खोले और बन्दरों को पकड़ने के लिए कई करोड़ रुपये पकड़ने वालों को दिए, यदि दिए तो बन्दरों की संख्या कागजों में तो कम हुई, लेकिन प्रदेश के अनेकों क्षेत्रों में यह संख्या दिनों-दिन बढ़ती जा रही है और वीरभद्र सरकार इस समस्या का समाधान करने में विफल हुई जिसके कारण प्रदेश में 45 हजार परिवारों ने कृषि व बागवानी का कार्य करना छोड़ दिया।पार्टी अध्यक्ष ने यह बात एक प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से कही।

उन्होंने कहा है कि आजकल फिर से कांग्रेस सरकार ने बन्दरों को पकड़ने  के लिए एक बाहरी राज्य से एजेंसी को लिया है, जिन्हें 700 रुपये एक बन्दर को पकड़ने का दिया जाएगा और वे बन्दरों को पकड़कर सरकार द्वारा खोले गए केन्द्र में नसबन्दी के लिए देंगे। वीरभद्र सिंह सरकार के वन मंत्री ने विधानसभा सत्र के पटल पर जानकारी रखी थी कि प्रदेश में बन्दरों को पकड़ने व नसबन्दी पर 4 करोड़ रुपये दिए गए। उन्होंने कहा है कि भाजपा सत्ता में आने पर जंगली जानवरों व बंदरों की समस्या का स्थायी हल खोजेगी ताकि आम जनता को तथा किसानों को इस समस्या से राहत मिल सके।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *