"वीवीपीएटी" वोटिंग मशीन के लिए स्वतंत्र प्रमाणीकरण प्रणाली : डॉ. सोनिया ठाकुर

“वीवीपीएटी” वोटिंग मशीन के लिए स्वतंत्र प्रमाणीकरण प्रणाली : डॉ. सोनिया ठाकुर

  • प्रदेश में जागरूकता अभियानों के चलते पिछले वर्षों में मतदान प्रतिशतता में वृद्धि : नीरज शर्मा
  • वीवीपीएटी के माध्यम से मतदाता सात सेकण्ड में देख सकता है अपने मत
  • निर्वाचन विभाग द्वारा कार्यशाला आयोजित

शिमला: निर्वाचन विभाग द्वारा आज यहां मीडिया से जुड़े लोगों को ईवीएम व वीवीपीएटी मशीन के प्रयोग बारे अवगत करवाने के लिए एक कार्यशाला आयोजित की गई। संयुक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ. सोनिया ठाकुर ने कहा कि वीवीपीएटी वोटिंग मशीन के लिए यह एक स्वतंत्र प्रमाणीकरण प्रणाली है जो मतदाता को उनके द्वारा डाला गया मत सही पड़ा है को प्रमाणित करती है। वीवीपीएटी के माध्यम से मतदाता सात सेकण्ड के भीतर तत्काल अपने मत को देख सकता है।

उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश से संबंधित ख्यातिप्राप्त लोगों जिन्होंने राज्य, राष्ट्रीय तथा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर नाम रोशन किया है से भी मतदाताओं को मतदान तथा चुनाव में अपनी भागीदारी सुनिश्चित बनाने के लिए प्रेरित करने का आग्रह किया है ताकि लोकतंत्र को और अधिक सुदृढ़ बनाया जा सके। उन्होंने कहा कि युवाओं तथा विशेषकर दिव्यांगजनों की चुनाव में भागीदारी सुनिश्चित बनाने के लिए युवा दिव्यांग मुस्कान को जागरूकता अभियान में शामिल किया गया है।

ओएसडी निर्वाचन नीरज शर्मा ने कहा कि प्रदेश में जागरूकता अभियानों के चलते पिछले वर्षों में मतदान प्रतिशतता में वृद्धि हुई है। उन्होंने कहा कि आम लोगों को जागरूक करने के लिए बेहतर मीडिया कवरेज करने के लिए इस वर्ष मीडिया से जुड़े लोगों को मतदाता पुरस्कार प्रदान किए जायेंगे।

युवा आइकन मुस्कान ने कहा कि सुदृढ़ लोकतंत्र व उपयुक्त उम्मीदवार चुनने  तथा चुनाव में अपनी भागीदारी सुनिश्चित बनाने के लिए कॉलेज व विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों को प्रेरित कर रही है।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *