आतंकवाद जड़ से खत्म होना चाहिए और देश के भीतर ऐसे असामाजिक तत्वों को पनाह देने वालों के विरुद्ध हो सख्त कार्रवाई : प्रो. धूमल

प्रदेश पर पचास हजार करोड़ से ज्यादा का कर्जा,भ्रष्टाचार का बोलबाला, सड़कों में खड्डे, खड्डों में पानी यही प्रदेश कांग्रेस के विकास की कहानी : प्रो. धूमल

  • अंतिम समय में सरकार का दान-पुण्य नहीं आएगा कांग्रेस के काम: प्रो. धूमल
  • नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के फैसले से प्रदेश में वन माफिया होने की हुई पुष्टि : प्रो. धूमल
  • कांग्रेस ने आम नागरिक ही नहीं बल्कि अपनों को भी दिया धोखा: : प्रो. धूमल
अंतिम समय में सरकार का दान-पुण्य नहीं आएगा कांग्रेस के काम: प्रो. धूमल

अंतिम समय में सरकार का दान-पुण्य नहीं आएगा कांग्रेस के काम: प्रो. धूमल

अंकुश दत्त शर्मा /हमीरपुर: पूर्व मुख्यमंत्री प्रो.प्रेम कुमार धूमल ने बड़सर में आयोजित कार्यक्रम में कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि आज बड़सर विस का प्रत्येक सच्चा भाजपा कार्यकर्ता मन ही मन सोच रहा है यदि भाजपा के प्रत्याशी को विधायक बनाया होता, यदि 2012 में फिर से भाजपा की सरकार बन गयी होती,  तो नकली बोर्डों और नकली फटों की बात और बिना बजट से उद्घाटन-शिलान्यासों की बात नहीं होती। अंतर है दो सरकारों के काम करने का।

प्रो. धूमल ने कहा कि अंतिम समय में सरकार नकली नोटों और नकली वोटों का दान-पुण्य कर रही है। नकली घोषणाएं-शिलान्यास, जो मात्र वोटों के लिए किये जा रहे हैं, करने वाले भी जानते हैं की इनका कभी निर्माण नहीं होगा क्यूंकि इन कार्यों के लिए बजट नहीं है, पैसा नहीं है, कोई डीपीआर नहीं बनी है। यह प्रोजेक्ट्स कभी सिरे नहीं चढ़ा करते। न उनको अपने काम पर विश्वास है और न प्रदेश के आम नागरिक को यह विशवास है कि कुछ काम हो रहा है। लोग मजाक उड़ा रहे हैं।

प्रो. धूमल ने कहा की अंतिम समय में सरकार द्वारा किये जा रहे दान-पुण्य का कोई लाभ कांग्रेस पार्टी को नहीं मिलेगा। जो केवल दिखावे के लिए घोषणाएं की हैं वह लागु नहीं होंगी। नयी सरकार में लोगों के हित के मुताबिक, जो काम जिस के लिए आवश्यक होगा वही काम होगा। भाजपा की सरकार जो काम जरुरी होगा वही कहेगी और पांच साल के भीतर पूरा भी कर के दिखायेगी।

प्रो. धूमल ने कहा की कांग्रेस सरकार ने सिर्फ आम जनता के साथ नहीं अपनों के साथ भी दिया किया है। आज रोहड़ू की सड़कों के हालात क्या हैं? शिमला से हमीरपुर के रास्ते में हीरा नगर के पास घटासनी में खेल मैदान बनाने की घोषणा 2005 में की थी। क्रिकेट स्टेडियम का शिलान्यास मुख्यमंत्री ने अपने चुनाव क्षेत्र में किया था, दूसरी पारी भी मुख्यमंत्री की समाप्त हो गयी, एक पत्थर आज तक नहीं लगा। कथनी और करनी में इनकी अंतर है। घोषणा तो कोई भी कर देंगे, लेकिन काम करना कोई नहीं, करें भी कहाँ से जो पैसा आ रहा है पता नहीं कहाँ जा रहा है। जब प्रदेश में भाजपा की सरकार थी तो केंद्र ने पांच वर्ष में सिर्फ बीस हजार छ: सौ करोड़ रुपये दिए थे। और मोदी सरकार इन पांच वर्षों में एक लाख पंद्रह हजार करोड़ से ज्यादा पैसा प्रदेश को आएगा। फिर भी प्रदेश सरकार कर्जा उठाये जा रही है। प्रदेश पर पचास हजार करोड़ से ज्यादा का कर्जा हो गया है।यह कर्जा हर हिमाचली पर हो गया है जो सबके सर पर लगभग अठावन हजार से ज्यादा का कर्जा है। दूसरी ओर विकास की हालत क्या है? सड़कों में खड्डे, खड्डों में पानी, यही कांग्रेस के प्रदेश के विकास की कहानी। प्रदेश में हर तरफ सड़कें टूटी हैं, कोई मुरम्मत का काम नहीं हो रहा। भ्रष्टाचार का बोलबाला है। ऐसे हिमाचल को राहुल गांधी कहते हैं गुजरात मॉडल अच्छा नहीं बल्कि हिमाचल मॉडल अच्छा है।

प्रो. धूमल ने कहा की हम वन माफिया की बात करते थे, तारादेवी के जंगल से 477 देवदार के पेड़ कते थे। धर्मशाला के विस सत्र में कहा की जांच करेंगे और बाद में यह कह कर जांच बंद कर दी की वहां पेड़ नहीं झाड़ियाँ थी। हम धन्यवादी हैनेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के जिन्होंने एक करोड़ सोलह लाख रूपया का जुर्माना और चार हजार स्तहतर पेड़ लगाने का आदेश सरकार को किया है। यह पुष्टि है इस बात की प्रदेश में वन माफिया है।  प्रदेश में एक फौरेस्ट गार्ड को जिसकी सिर्फ तीन महीने की सर्विस हुई थी, को मार दिया गया और उसे आत्महत्या का नाम दिया गया।

प्रदेश के पुलिस के लोग आज खुद कानून की गिरफ्त में हैं यह अलग बात है उनको वीआईपी ट्रीटमेंट मिल रहा है।  एक आईजी लेवल का है। क्या आईजी अधिकारी किसी के कहे बगैर ऐसा काम करेगा? हम सीबीआई से मांग करते हैं कि वह पता करे की पुलिस ने किसके अनुसार काम किया। जांच वहां तक जानी चाहिए। चोर को ही नहीं बल्कि चोर की माँ को भी पकड़ो। कानून व्यवस्था चरमराई हुई है। फिर कांग्रेस कहती है विकास से विजय की ओर। हरोली में अठाईस नौजवान नशे की गोलियां खाकर मौत के आगोश में समा गये। देवभूमि ड्रग्जन्भूमि बन गयी। नशे का कारोबार फैला है। बाहर से लोग हिमाचल घुमने आते थे, तो देवी देवताओं के दर्शन को आते थे, वादियों में स्वास्थ्य लाभ को आते थे, अध्यात्मिक संतुष्टि करने को आते थे, देवभूमि साथ में वीरभूमि भी है तो वीरों की धरती को नमन करने आते थे। आज हिमाचल से बहार जाते ही लोग कहते हैं कि आप वहां से हैं जहां से नशे का कारोबार फैला हुआ है और दूसरी जगह पहुँच रहा है।

प्रो. धूमल ने कहा की आज सवाल यह है कि हिमाचल के अस्तित्व को  बचाना है, सम्मान को बचाना है तो कांग्रेस को हराना है और कमल खिला कर भाजपा को जिताना है। उन्होंने सबको आह्वान किया की भाजपा को जितायें। इस अवसर पर पूर्व विधायक बलदेव शर्मा ने भी मुख्यमंत्री और स्थानीय कांग्रेसी विधायक पर तीखे हमले किये।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *