चौपाल से कांग्रेस प्रत्याशी के तौर पर डॉ. सुभाष मंगलेट व्यक्तिगत पसन्द : वीरभद्र सिंह

चौपाल से कांग्रेस प्रत्याशी के तौर पर डॉ. सुभाष मंगलेट व्यक्तिगत पसन्द : वीरभद्र सिंह

  • मुख्यमंत्री ने किया नेरवा में आईटीआई का शुभारम्भ
  • चौपाल विधायक पर लगाया जनता से धोखे का आरोप
  • जो भी व्यक्ति वोट खरीदने में विश्वास रखता है, वह कभी लोगों का सच्चा हितैशी नहीं हो सकता : वीरभद्र सिंह

 शिमला: मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने आज शिमला जिला के चौपाल निर्वाचन क्षेत्र के अन्तर्गत नेरवा में एक जनसभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि यह अत्यन्त दुर्भाग्यपूर्ण है कि स्थानीय विधायक को क्षेत्र का विकास रास नहीं आया और जन भावनाओं के साथ खिलवाड़ करते हुए भाजपा से हाथ मिला लिया। उन्होंने कहा कि विधायक ने निजी स्वार्थो के लिए लोगों को बहकाया और अब उनसे किनारा कर लिया। जो भी व्यक्ति वोट खरीदने में विश्वास रखता है, वह कभी लोगों का सच्चा हितैशी नहीं हो सकता।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले विधानसभा चुनावों के उपरान्त चौपाल के विधायक बलवीर वर्मा उनसे मिले और कांग्रेस पार्टी का सम्बद्ध सदस्य बनने का आग्रह किया बाद में उन्होंने चौपाल में हुए विकास का श्रेय खुद को देना शुरू कर दिया और मुझ पर केवल रामपुर व रोहडू क्षेत्रों का विकास करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि वह सभी क्षेत्रों के समान विकास में विश्वास रखते हैं और बांटने वाली राजनीति नहीं करते। उन्होंने कहा कि पिछले पांच वर्षों के दौरान चौपाल विधानसभा क्षेत्र के लिए जो कुछ उन्होंने किया वह आम जनता के लिए किया, न कि बलवीर वर्मा के लिए।

उन्होंने कहा कि प्रदेश के लोग बिकाऊ नहीं है बल्कि वे बफादार हैं और अपने देवी-देवताओं में गहरी श्रद्धा रखते हैं। हिमाचल के लोग पारस्परिक सम्बन्धों को बनाए रखने में विश्वास रखते हैं और अपनों के साथ कभी विश्वासघात नहीं करते। उन्होंने आशा जताई कि भविष्य में चौपाल की जनता किसी के झूठे बहकावों या वायदों का शिकार नहीं बनेगी।

वीरभद्र सिंह ने कहा कि वह चार बार निर्वाचित होकर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष बने जबकि पिछले विधानसभा चुनाव से ठीक दो माह पूर्व उन्हें अध्यक्ष पद पर मनोनित किया गया। उन्होंने दुख जताया कि प्रजातंत्र की मूल भावना समाप्त होती जा रही है और सभी राजनीतिक दलों में यही स्थिति है। उन्होंने कहा कि बेहतर यही है कि राजनीतिक दलों के सदस्य मनोनयन के बजाय निर्वाचित होकर आएं ताकि प्रजातंत्र की मूल भावना स्थापित रहे। उन्होंने नेरवा में 4.73 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित औद्योगिक प्रशिक्षण केन्द्र का लोकार्पण किया और पुराने कॉलेज भवन में कक्षाएं आरम्भ करने के निर्देश दिए। उन्होंने नेरवा कॉलेज के नवनिर्मित भवन का निरीक्षण भी किया जिसका उन्होंने कुछ दिन पूर्व ही ऑनलाइन उद्घाटन किया था। बाद में मीडिया से बातचीत के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव में चौपाल से कांग्रेस प्रत्याशी के तौर पर डॉ. सुभाष मंगलेट उनकी व्यक्तिगत पसन्द रहेंगे। एपीएमसी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व विधायक सुभाष मंगलेट ने चौपाल, नेरवा व कुपवी के लिए विभिन्न विकासात्मक परियोजनाओं की सौगात देने के लिए मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। उन्होंने चौपाल क्षेत्र में हुए चहुमुखी विकास के लिए मुख्यमंत्री को श्रेय दिया। उन्होंने स्थानीय विधायक पर जनभावनाओं से खेलने और भाजपा का दामन थामने पर कड़ी आलोचना की। उन्होंने स्वयं वीरभद्र सिंह का नेतृत्व स्वीकार करते हुए कांग्रेस पार्टी को अपना सहयोग बिना शर्त दिया था और कभी क्षेत्र की जनता के साथ विश्वासघात नही किया। बलवीर वर्मा क्षेत्र की जनता को 15 दिनों में अपने पक्ष में लेने का दावा कर रहे हैं, लेकिन वह भूल गए है कि चौपाल की जनता को पैसों से नही खरीदा जा सकता और वह उनके बहकावे में नही आएगी। प्रदेश कांग्रेस समिति के सदस्य रजनीश किमटा ने भी इस अवसर पर जनसभा को सम्बोधित किया और एनडीए सरकार पर देश की जनता को झूठे सपने बेचने का आरोप लगाया।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *