निःशुल्क दवाइयां प्रदान करने के लिए 71 करोड़ का बजट प्रावधान

निःशुल्क दवाइयां प्रदान करने के लिए 71 करोड़ का बजट प्रावधान

  • मुख्यमंत्री व केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने ऑनलाइन किए अनेक स्वास्थ्य संस्थानों के शिलान्यास

शिमला: मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री जगत प्रकाश नड्डा तथा प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री कौल सिंह ठाकुर के साथ आज यहां पीटरहॉफ से पंडित जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज चम्बा तथा डॉ. वाई.एस. परमार मेडिकल कॉलेज नाहन की ऑनलाईन आधारशिलाएं रखी। उन्होंने वाई.एस. परमार मेडिकल कॉलेज नाहन, डॉ. राजेन्द्र प्रसाद मेडिकल कॉलेज टांडा, नागरिक अस्पताल नूरपुर, क्षेत्रीय अस्पताल ऊना, नागरिक अस्पताल सुन्दरनगर, क्षेत्रीय अस्पताल बिलासपुर व जिला अस्पताल सोलन की मातृत्व एवं शिशु स्वास्थ्य शाखाओं की भी आधारशिलाएं रखी।

इसके अलावा, टांडा मेडिकल कॉलेज में जीएनएम प्रशिक्षण स्कूल की आधारशिला रखी तथा श्री लाल बहादुर शास्त्री राजकीय मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल मंडी में टर्शीयरी कैंसर उपचार केन्द्र तथा बिलासपुर के घुमारवीं के नागरिक अस्पताल के इंडोर खण्ड की भी आधारशिलाएं रखीं। चम्बा तथा नाहन दो मेडिकल कॉलेजों पर कुल 452 करोड़ रुपये की लागत का अनुमान है।

मातत्वृ एवं शिशु स्वास्थ्य शाखाओं की स्थापना का उद्देश्य गर्भावस्था के दौरान स्वास्थ्य आवश्यकताओं को पूरा करना है। इन शाखाओं में ऑप्रेशन थियेटर, लेबर रूम, आईसीयू, न्यू बोर्न केयर यूनिट तथा प्रसवपूर्व व प्रसव उपरांत खण्ड और बच्चों के लिए प्रारंभिक उपचार केन्द्र होंगे।

मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य शाखाओं के अन्तर्गत सात स्वास्थ्य संस्थानों में 550 बिस्तरों के लिए 112 करोड़ रुपये का बजट प्रावधान किया गया है, जिसमें डॉ. राजेन्द्र प्रसाद राजकीय मेडिकल कॉलेज टांडा में 200 बिस्तर, क्षेत्रीय अस्पताल ऊना में 100 बिस्तरों की सुविधा के अलावा नागरिक अस्पताल नूरपुर, डॉ. वाई.एस. परमार, नागरिक अस्पताल सुन्दरनगर, क्षेत्रीय अस्पताल बिलासपुर तथा सोलन प्रत्येक में 50 बिस्तरों की सुविधा होगी।

बिलासपुर जिला के नागरिक अस्पताल घुमारवीं में 50 बिस्तरों के इंडोर खण्ड के लिए 10 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है।

श्री लाल बहादुर शास्त्री राजकीय मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल मंडी में कैंसर उपचार केन्द्र पर 45 करोड़ रुपये की राशि व्यय की जाएंगी। इस केन्द्र में रेडियो थैरेपी जैसी सुविधाएं होंगी और कैंसर का उपचार भी किया जाएगा, जिसमें कैंसर का पता लगाना, निदान, उपचार, उपचार के उपरांत की स्थिति, देखभाल और पुनर्वास जैसी सुविधाएं शामिल हैं। डॉ. राजेन्द्र प्रसाद राजकीय मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल टांडा में स्थापित किए जाने वाले जीएनएम प्रशिक्षण स्कूल के लिए 12.55 करोड़ रुपये का बजट प्रावधान किया गया है।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर कहा कि राज्य में इंदिरा गांधी निःशुल्क औषधि योजना के अन्तर्गत मरीज़ों को 330 निःशुल्क दवाईयां तथा उपभोग्य वस्तुएं प्रदान करने के लिए 71 करोड़ रुपये का बजट प्रावधान किया गया है। उन्होंने कहा कि राज्य में रूबैला खसरा टीकाकरण अभियान बड़े पैमाने पर चलाया गया है और 20 लाख बच्चों को टीका लगाने का लक्ष्य रखा गया है। 30 अगस्त से आरम्भ किए गए इस अभियान के अन्तर्गत  अभी तक 13 दिनों में 13 लाख बच्चों का टीकाकरण किया जा चुका है।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *