जयराम सरकार के तीन साल कार्यक्रम में पढ़ा गया नड्डा का संदेश...

गुड़िया प्रकरण में नवीनतम घटनाक्रम प्रदेश सरकार के भ्रष्‍ट, संवेदनहीन व हतोत्‍साहित प्रशासन का पर्याय: नड्डा

  • प्रदेश की जनता वर्तमान सरकार को लेकर बहुत आक्रोशित है : जे.पी. नड्डा

 नई दिल्ली: केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार कल्‍याण मंत्री, जे.पी. नड्डा ने गुड़िया दुष्‍कर्म प्रकरण में नवीनतम घटनाक्रम पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए सारे घटनाक्रम पर गुस्‍सा, वेदना और निराशा व्‍यक्‍त करते हुए कहा कि इससे प्रदेश में शासन तंत्र न्‍यूनतम स्तर पर पहुंच गया है और आम लोगों में सरकारी प्रतिष्‍ठानों के प्रति विश्‍वास को गहरा आघात पहुंचा है। हिमाचल पुलिस जो अब तक अपनी ईमानदारी व कर्तव्‍यपरायणता के लिए जानी जाती थी, की छवि को भी गहरा धक्‍का लगा है। इसी घटनाक्रम पर अपना वक्‍तव्‍य देते हुए उन्‍होंने आगे कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा विशेष जांच दल (एस.आई.टी) का गठन ऐसी धारणा बनाने के लिए किया गया था कि इस जघन्‍य अपराध की जांच को निष्‍पक्ष तरीके से तीव्र गति से पूरा किया जाएगा, परन्‍तु यह कदम शुरू से ही विवादों के घेरे में रहा और उसमें सरकार की मंशा पर भी सवाल उठाए गए थे। हालांकि अभी जांच पूर्ण नहीं हुई है और यह मामला न्‍यायालय के विचाराधीन है, फिर भी सीबीआई द्वारा पूरी एसआईटी को गिरफ्तार कर लेना एक आम व छोटी घटना नहीं है। इस घटना में उच्‍च अधिकारियों की गिरफ्तारी यह बताती है कि इस घटना की जांच को सरकार के उच्‍च पदों पर बैठे लोगों के दिशानिर्देशों पर प्रभावित किया जा रहा था।

नड्डा ने आगे कहा कि राज्‍य की भाजपा इकाई आरंभ से ही इस जघन्‍य अपराध की सही व निष्‍पक्ष जांच की पक्षधर थी। राज्‍य भाजपा ने आम लोगों की संवेदनाएँ जो राज्‍य सरकार के उच्‍चतम कार्यालय के दबाव में पुलिस की ढुलमुल व पक्षपातपूर्ण कार्यवाही के विरूद्ध थी, के अनुरूप ही इस प्रकरण को उठाया था। वतर्मान घटना जिसमें आई.जी. रैंक के अधकारी को भी सीबीआई को गिरफ्तार करना पड़ा है, प्रदेश के इतिहास में असाधारण व अप्रत्‍याशित घटना है। राज्‍य सरकार की कार्य-प्रणाली से कानून-व्‍यवस्‍था स्‍थापित करने वाली इकाईयां और शासन के दूसरे पहलू पूरी तरह से चरमरा गए हैं। वर्तमान सरकार पर आगे कटाक्ष करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि वर्तमान सरकार का पूर्ण कार्यकाल भाई-भतीजावाद, भ्रष्‍टाचार और अकर्मण्‍यता का पर्याय बनकर उभरा है और अब सरकार के अंतिम चरण में स्‍थितियां बद से बदतर हो गई हैं। प्रदेश की जनता के जनादेश के अनुरूप अपने दायित्‍व का निर्वहन करने की अपेक्षा राज्‍य के मुख्‍यमंत्री और कांग्रेस पार्टी में  वर्चस्‍व की  कलह के कारण सभी पक्ष दिल्‍ली में 10 जनपथ के बाहर डेरा डाले हुए हैं।

नड्डा ने आगे कहा कि अगली सरकारजो नि:संदेह भाजपा की होगी, उसके सामने राज्‍य में कानून-व्‍यवस्‍था और अन्‍य प्रशासनिक कार्यों का निर्वहन करने वाले विभागों में आत्‍म-विश्‍वास और निष्‍पक्षता बहाल करना प्रमुख चुनौती रहेगी। राज्‍य के लोग इस अक्षम, भ्रष्‍ट और थकी-हारी सरकार को उखाड़ फेंकने का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं और राज्‍य में भाजपा सरकार बनाने के लिए आतुर  हैं।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *