गुड़िया न्याय मंच ने किया विधानसभा का घेराव

गुड़िया को न्याय दिलाने के लिए फिर सैकड़ों लोग उतरे सड़कों पर

  • गुड़िया न्याय मंच ने किया विधानसभा का घेराव

शिमला : गुड़िया न्याय मंच ने आज हिमाचल विधानसभा का घेराव किया। सैंकड़ों लोगों के साथ गुड़िया न्याय मंच ने पंचायत भवन से लेकर विधानसभा तक रैली निकाली और विधानसभा के बाहर जमकर नारेबाजी की। कोटखाई गुड़िया रेप मर्डर केस और वनरक्षक होशियार सिंह को न्याय दिलाने की मांग को लेकर हिमाचल विधानसभा का घेराव किया। गुड़िया न्याय मंच ने प्रदेश में बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर पुलिस प्रमुख को पद से हटाए जाने की मांग उठाई।

कोटखाई रेप एंड मर्डर केस और फारेस्ट गार्ड की हत्या को लेकर जहां विधानसभा सदन के अंदर हंगामा हो रहा था वहीं विधानसभा के बाहर भी गुड़िया को न्याय दिलाने के लिए फिर सैकड़ों लोग सड़कों पर उतर आए। पुलिस जांच से नाराज लोगों ने बुधवार को गुड़िया न्याय मंच के बैनर तले विधानसभा का घेराव किया। न्याय मंच ने मांग की है कि गुड़िया के हत्यारों को जल्द ही गिरफ्तार किया जाए और करसोग में वन रक्षक होशियार सिंह के हत्या की सीबीआई जांच होनी चाहिए। इससे पहले न्याय मंच ने पंचायत भवन में इकट्ठे होकर सैकड़ों लोगों ने एक रैली निकाली और बस स्टैंड होते हुए विधानसभा के बाहर घेराव कर प्रदेश पुलिस के मुखिया की बर्खास्तगी की मांग की।

इस दौरान गुड़िया न्याय मंच के सह संयोजक विजेंद्र मेहरा ने कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था चौपट है। प्रदेश में आए दिन बलात्कार हत्या की घटनाएं बढ़ रही है। वन रक्षक होशियार सिंह के मर्डर का मसला अब तक सुलझ नहीं पाया है। गुड़िया के बलात्कार हत्या की घटना के डेढ़ माह बाद भी असली गुनहगार जेल की सलाखों के बाहर हैं। हिमाचल प्रदेश पुलिस की कार्यप्रणाली शुरू से ही संदेह के घेरे में रही है। पुलिस ने तथ्यों को छुपाने की कोशिश की है। इस सारे घटनाक्रम में वन माफिया, शराब माफिया भू माफिया का खेल है। उन्होंने मांग उठाई कि होशियार मर्डर केस को भी सीबीआई को दिया जाए। उन्होंने सीबीआई से जल्द मामले को सुलझाकर कर सच जनता के सामने लाने की मांग की।

विजेंद्र मेहरा ने कहा कि पुलिस कस्टडी में आरोपी सूरज की हत्या के बाद पुलिस कार्यप्रणाली पर प्रश्नचिन्ह लग गया है। इसलिए प्रदेश के डीजीपी को तुरंत बर्खास्त किया जाए और दोषी पुलिस अफसरों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही होनी चाहिए।

इस प्रदर्शन में शिमला सहित मंडी के सैकड़ों लोग शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने सरकार और प्रदेश पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। वहीं सुरक्षा के भी कड़े इंतजाम किए गए थे, विधानसभा की तरफ प्रदर्शनकारी न जाए इसको लेकर गेट के पास बेरिकेट लगाए थे। जिससे उनको विधानसभा के अंदर जाने से रोका गया।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *