अपराधियों की धरपकड़ के लिये धैर्य एवं साहस के साथ कार्य करें पुलिस : मुख्यमंत्री

अपराधियों की धरपकड़ के लिये धैर्य एवं साहस के साथ कार्य करें पुलिस : मुख्यमंत्री

  • 1073 कंस्टेबलों की भर्ती प्रक्रिया प्रगति पर
  • 2.81 करोड़ के प्रशासनिक खण्ड का लोकार्पण

शिमला: मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने जुनगा स्थित पुलिस मैदान में चारदीवारी लगाने के लिए 30 लाख रूपये की घोषणा की। उन्होंने जुनगा स्थित हि.प्र. सशस्त्र पुलिस की प्रथम बटालियन के 2.81 करोड़ रूपये की लागत से निर्मित नए प्रशासनिक खण्ड का लोकार्पण किया तथा इसे पूर्णतः सुसज्जित करने के लिए 10 लाख रूपये प्रदान करने की घोषणा की।

मुख्यमंत्री ने 183 नए पास आउट पुलिस रंगरूटों को बधाई दी और कहा कि उन्हें प्रदेश पुलिस परिवार का हिस्सा बनने पर गर्व महसूस करना चाहिए। उन्होंने कहा कि उन्हें विश्वास है कि कठोर प्रशिक्षण से उन्हें एक सच्चा एवं पेशेवर सिपाही बनने में सहायता मिलेगी तथा वे सेवाकाल के दौरान अपनी जिम्मेवारियों तथा आने वाली चुनौतियों का सामना करने के लिए सक्षम होंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ने पुलिस कांस्टेबलों के 1073 पद स्वीकृत किए हैं, जिनकी भर्ती प्रक्रिया प्रगति पर है। इसके अतिरिक्त उप-निरीक्षकों की भर्ती प्रक्रिया पूर्ण कर ली गई है और वे डरोह में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जुनगा में प्रशिक्षण केन्द्र की स्थापना यानि वर्ष 1971 से सशस्त्र पुलिस प्रशिक्षण पाठ्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है और डरोह स्थित प्रशिक्षण कालेज उसके बाद स्थापित किया गया और आज हि.प्र.सशस्त्र पुलिस बल के अलावा राज्य में 6 रिजर्व बटालियनें हैं।

मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में हिमाचल प्रदेश पुलिस के कार्यों एवं चुनौतियों का साहस के साथ मुकावला करने के ज़ज्बे की सराहना करते हुए कहा कि पुलिस अधिकारियों को विशेषकर महिलाओं की सुरक्षा आवश्यकताओं तथा समाज के गरीब एवं कमजोर वर्ग के लोगों की सुरक्षा के लिए और अधिक संवेदनशील होने की आवश्यकता है। उन्होंने प्रशिक्षित जवानों को सलाह दी कि वे कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने और अधिक पेशेवर बनने के लिए लोगों के साथ मैत्रीपूर्ण रवैया अपनाएं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि यद्यपि बेहतर पुलिस प्रशासन के बावजूद कई बार कुछ त्रुटियां रह जाती हैं, लेकिन हमारा यह दायित्व बनता है कि हम अपराधियों की धरपकड़ तथा उन्हें सामने लाने के लिये धैर्य एवं साहस का परिचय दें। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश एक शांतिपूर्ण राज्य है और अन्य राज्यों की तुलना में यहां अपराध की दर बहुत कम है तथा हमारी पुलिस कानून व्यवस्था बनाए रखने और हर तरह से अपराधों से निपटने में सक्षम है। उन्होंने पुलिस जवानों का आहवान किया कि उन्हें कानून की पवित्रता बनाए रखनी चाहिए और गरीब एवं जरूरतमंदों की सहायता करनी चाहिए।

उन्होंने जुनगा स्थित पुलिस मैदान की परिधि में आने वाली सम्पति व पुराने भवनों की भव्यता को बनाए रखने के भी निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पुलिस के आवासीय तथा गैर-आवासीय भवनों के निर्माण पर इस वित्त वर्ष के दौरान 40 करोड़ रूपये व्यय किए जाने के अतिरिक्त पुलिस अधोसंरचना के आधुनिकीकरण के लिए 5.42 करोड़ रूपये स्वीकृत किए गए हैं।  इससे पूर्व, मुख्यमंत्री ने प्रतिभागियों द्वारा प्रस्तुत आकर्षक मार्च पास्ट की सलामी ली। सिपाही अजय शर्मा ने परेड का नेतृत्व किया जबकि सिपाही अनिल कुमार ने सह नेतृत्व किया।

मुख्यमंत्री ने प्रशिक्षण के दौरान विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले आरक्षियों को पुरस्कार भी वितरित किए।

इस अवसर पर कमाण्डो प्रदर्शन, पीटी शो के अलावा सांस्कृतिक कार्यक्रम तथा अन्य आकर्षक कलाबाजियां भी समारोह का हिस्सा बनी।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *