मनकोटिया ने खोला मुख्यमंत्री के खिलाफ मोर्चा

शिमला : पर्यटन विकास बोर्ड के उपाध्यक्ष पद से हटाए गए मेजर विजय सिंह मनकोटिया ने मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए कहा इस राज्य में 80 फीसदी जनता उन्हें मुख्यमंत्री पद पर नहीं देखना चाहती। शिमला में प्रेस कांफ्रेंस के दौरान मेजर मनकोटिया ने कहा कि वीरभद्र सिंह के कारण आज हिमाचल की छवि पूरे देश में खराब हो रही है। उन्हें पद से हटाने की जगह अगर मुख्यमंत्री खुद पद से हट जाएं तो यह प्रदेश के लिए अच्छा रहता। उन्होंने कहा कि राज्यपाल भी उन्हें पद से हटाने की जगह अगर मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह को पद से हटाने की अधिसूचना जारी करते तो अच्छा होता।

मनकोटिया ने कहा कि मुख्यमंत्री के नेतृत्व में जितने भी चुनाव हुए, उसमें कांग्रेस को भारी हार मिली है। मुख्यमंत्री की पत्नी भी लोकसभा चुनाव हार गई और सीएम के विधानसभा हलके से भी बीजेपी को लीड मिली थी। उन्होंने कहा कि वीरभद्र सिंह कह रहे हैं कि वे सातवीं बार सीएम बनेंगे, लेकिन वे कैसे बनेंगे। उन्होंने कहा कि जिसके नेतृत्व में इतने चुनाव हारे, उसे पद से हटा देना चाहिए। मनकोटिया ने कहा कि वीरभद्र सिंह के नेतृत्व में जितने भी चुनाव हुए, उसमें कांग्रेस को भारी हार मिली है। उन्होंने दावा किया कि वे गेम चेंजर होंगे। मनकोटिया ने यह भी साफ किया कि वह शाहपुर से ही चुनाव लड़ेंगे। उन्‍होंने कहा कि भाजपा में वह में नहीं जाएंगे। उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस की हालत प्रदेश में बेहद कमजोर हो गई है। कांग्रेस विधानसभा चुनाव में डबल डिजिट तक भी नहीं पहुंच पाएगी। लेकिन मुख्‍यमंत्री अपने ही हित में काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बेरोजगारी और निवेश दोनों बड़े मुद्दों पर हिमाचल सरकार कभी बात नहीं करती। बेरोजगारी भत्ते पर युवाओं को ठगा गया। चंद पदों के लिए हजारों बेरोजगार कतार में हैं। तो आखिर कांग्रेस किस आधार पर जनता के बीच वोट मांगने जाएगी।

उन्होंने कहा कि धर्मशाला को दूसरी राजधानी बनाने का मामला क्लीयर नहीं है। वहीं दूसरी ओर उन्होंने कहा कि  4 माह को सारा अमला वहां शिफ्ट होना चाहिए। तभी उसका लाभ होगा।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *