मुख्यमंत्री ने दिए पर्यटन विभाग की भूमि से अतिक्रमण हटाने के निर्देश

मुख्यमंत्री ने दिए पर्यटन विभाग की भूमि से अतिक्रमण हटाने के निर्देश

  • निगम ने 31 मई, 2017 तक 3.70 लाख त्रैमासिक परिचलन लाभ कमाया
  • अवैध कब्जाधारियों से भूमि को एक माह के भीतर खाली करवाकर बाड़ लगवाने के काम को प्राथमिकता के आधार पर पूरा किया जाए
निगम ने 31 मई, 2017 तक 3.70 लाख त्रैमासिक परिचलन लाभ कमाया

निगम ने 31 मई, 2017 तक 3.70 लाख त्रैमासिक परिचलन लाभ कमाया

शिमला: मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने आज यहां हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम केब निदेशक मण्डल की बैठक की अध्यक्षता करते हुए कुल्लू जिला के मणिकरण में पर्यटन विभाग की जमीन पर किए गए अतिक्रमण हटाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने गन्धक स्नानागार (सल्फर बाथ) के निर्माण की संभावनाएं तलाशने के अतिरिक्त मणिकरण व कसोल मार्ग पर भारी संख्या में आने वाले पर्यटकों को सड़क किनारे बेहतर सुविधाएं उपलब्ध करवाने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि अवैध कब्जाधारियों से भूमि को एक माह के भीतर खाली करवा कर बाड़ लगवाने के काम को प्राथमिकता के आधार पर पूरा किया जाए।

मुख्यमंत्री ने पर्यटन विभाग के कसौली स्थित होटल निर्माण के लिए आवश्यक अनुमति सुनिश्चित करवाने के लिए आवश्यक कदम उठाने के भी निर्देश दिए। उन्होंने जिला सोलन के क्यारी बंगला में पर्यटन होटल के विस्तार के निर्माण कार्य को भी शीघ्र पूरा करने को कहा। बैठक में जानकारी दी गई कि निगम ने 31 मई, 2017 तक 3.70 लाख त्रैमासिक परिचलन लाभ कमाया है।

बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि मुख्यमंत्री सोलन जिला के साधुपुल स्थित जल पार्क व भराड़ीघाट में सड़क किनारे उपलब्ध करवाई गई सुविधाओं तथा ऊना जिला के सोमभद्रा मार्ग पर नव स्तरोन्नत सुविधाओं का 30 जून, 2017 को वीडियो कॉनफ्रेंसिंग द्वारा लोकार्पित करेंगे। बैठक में निगम में मैसन, कारपेंटर जैसे कामगारों के कुछ पदों को भरने का भी निर्णय लिया गया।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *