शूलिनी विश्वविद्यालय में लगा “फ्लावर फेस्ट”

शूलिनी विश्वविद्यालय में लगा “फ्लावर फेस्ट”

  • डीसी सोलन ने किया प्रदर्शनी का उदघाटन
  • सुबह से ही प्रदर्शनी को देखने शहर और आस पास के लोगों की उमड़ी भीड़
  • शूलिनी विश्वविद्यालय ने अपने परिसर में लगा रखी हैं फूलों की अनेक किस्म की प्रजातियाँ
  • वार्षिक और बाराहमासी फूलदार पौधों की विभिन्न क़िस्मों को किया गया प्रदर्शित
  • अध्यातम में रुचि रखने वालों के लिए आध्यात्मिक किताबों की भी लगी प्रदर्शनी
  • प्रदर्शनी में लगाए गए अजेलिया फूल इस ऋतु का सर्वश्रेष्ठ फूल, मामलारिया बेस्ट कैक्टस,शेफलरा सर्वोत्तम सजावटी फूल किया गया घोषित
  • नौणी की सरेन नर्सरी के लिमोनिअम को मिला बेस्ट ड्राइ फ्लावर का अवार्ड

 

सुबह से ही प्रदर्शनी को देखने उमड़ी भीड़

सुबह से ही प्रदर्शनी को देखने उमड़ी भीड़

शिमला: शूलिनी विश्वविद्यालय परिसर में आज बसंत ऋतु के आगमन पर फूलों की एक प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। प्रदर्शनी का उदघाटन सोलन डीसी राकेश कंवर ने किया।  इस मौके पर उन्होनें कहा कि इस तरह के आयोजन से हमें फूलों और पौधों के बीच जाकर उनके बारे में जानकारी मिलती है क्योंकि हमने जो भी प्रकृति के बारे में ज्ञान एकत्रित किया है वो किताबों के माध्यम से होता है।

उन्होनें कहा की इस तरह के आयोजन से हमें प्रकृति के महत्व और उसके संरक्षण के लिए कार्य करने की प्रेरणा मिलती। सुबह से ही प्रदर्शनी को देखने शहर और आस पास के लोगों की अच्छी भीड़ उमड़ी और सभी ने फूलों की विभिन्न प्रजातियों को देखा और परखा। क्षेत्र की जलवायु फूलों की पैदावार के लिए अनुकूल होने की वजह से शूलिनी विश्वविद्यालय ने अपने परिसर में ही अनेक किस्म की प्रजातियाँ लगा रखी हैं।

इस प्रदर्शनी में वार्षिक और बाराहमासी फूलदार पौधों की विभिन्न क़िस्मों को प्रदर्शित किया गया और रियाती दरों पर लोगों को उपलब्ध भी करवाया गया। फूलों की ये अलग अलग किस्में पोट्स, पौली बैग्स, बास्केट्स आदि में मामूली दरों पर मुहैया करवाई गई थीं। विश्वविद्यालय परिसर में हर वर्ग के अतिथियों को रिझाने हेतु विभिन्न तरह के इंतज़ाम किए गए जिनमें बच्चों के लिए एडवेंचर क्लब, फन विद साइंस (विज्ञान स्टाल), खान पान के (चाइनीज़, भारतीय व्यंजन, शीतल पेय) स्टाल आदि की व्यवस्था भी की गई थी। इसके अलावा खाद्य प्रशिक्षण और संरक्षण तकनीकों पर भी एक स्टाल लगाया गया जिसमें शूलिनी विश्वविद्यालय के फूड टेक्नॉलजी विभाग के संकाय सदस्यों द्वारा ट्रेनिंग दी गई।

म्यूजिक बैंड 'डीवाइन सैनिटी' ने प्रदर्शनी देखने आए लोगों का किया मनोरंजन

म्यूजिक बैंड ‘डीवाइन सैनिटी’ ने प्रदर्शनी देखने आए लोगों का किया मनोरंजन

अध्यातम में रुचि रखने वालों के लिए आध्यात्मिक किताबों की प्रदर्शनी भी लगाई गई। कार्यक्रम का एक आकर्षण लाइव म्यूजिक परफॉर्मेंस रही जिसमें शूलिनी के छात्र पारस अत्री, हर्षित भण्डारी, मणि शर्मा और परवीन चौहान के म्यूजिक बैंड ‘डीवाइन सैनिटी’ ने प्रदर्शनी देखने आए लोगों का भरपूर मनोरंजन किया और नए और पुराने गीतों पर लोगों को झूमने पर मजबूर कर दिया।

फूलों की प्रदर्शनी को जज करने हेतु शहर से नामी गिरामी विशेषज्ञों को आमंत्रित किया गया था जिनमें डी.एस पूरी, शशि सहगल, मनोरमा आनंद और अंबिका शर्मा शामिल रहे।  प्रदर्शनी में लगाए गए अजेलिया फूल को इस ऋतु का सर्वश्रेष्ठ फूल, मामलारिया को बेस्ट कैक्टस और शेफलरा को सर्वोत्तम सजावटी फूल घोषित किया गया। नौणी की सरेन नर्सरी के लिमोनिअम को बेस्ट ड्राइ फ्लावर का अवार्ड मिला।

कार्यक्रम में शूलिनी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर प्रेम कुमार खोसला, सरोज खोसला, शूलिनी विश्वविद्यालय के प्रो चांसलर सतीश आनंद, अशोक आनंद और प्रो. वीसी अतुल खोसला के अलावा छात्र और संकाय सदस्यों भी प्रदर्शनी में मौजूद थे। इसके अलावा गवर्नमेंट स्कूल नौणी, दगशाई पब्लिक स्कूल और गुरुकुल पब्लिक स्कूल के छात्रों और अध्यापक ने भी प्रदर्शनी देखी।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *