कई क्षेत्रों में अधिकतर किसानों की फसल का नफा-नुकसान मौसम पर निर्धारित

बागवान खिले हुए फूलों पर न करें किसी प्रकार का छिडक़ाव, कृषि उत्पादन बढ़ाने के लिए मिट्टी की अवश्य करवाएं जांच

बागवान खिले हुए फूलों पर न करें किसी प्रकार का छिडक़ाव

बागवान खिले हुए फूलों पर न करें किसी प्रकार का छिडक़ाव

किसानों व बागवानों के लिए उपयोगी जानकारी :

  • सेब वृक्षों पर गुलाबी कली अवस्था में यदि थ्रिप्स का आक्रमण नजर आए (15 थ्रिप्स पत्ती/) तो थियोक्लोप्रिड (ऐलैंटो) 100 मि.लि./ 200 लि. पानी की दर से घोल बनाकर छिडक़ाव करें।
  • सरकार ने मिलिंग समर्थन मूल्य (एम एस पी) 5950/- रूपये प्रति क्विंटल से बढ़ाकर 6500/- प्रति क्विंटल और बॉल कोपरा के लिए (एम एस पी) 6240/- रूपये प्रति क्विंटल से बढ़ाकर 6785/- प्रति क्विंटल 2017 के लिए घोषित कर दिया है।
  • बागवानों को सलाह दी जाती है कि सेब में हरी पंखुड़ी से गुलाबी पंखुड़ी की अवस्था में बोरिक एसिड 100 ग्राम/ 100 ली. पानी तथा यूरिया 500 ग्राम/ 100 ली. पानी का छिडक़ाव करें।
  • बागवानों को सलाह दी जाती है कि खिले हुए फूलों पर किसी प्रकार का छिडक़ाव न करे ताकि परागण क्रिया में सहायक कीटों को कोई नुकासन न हो।
  • बागवानों को सलाह दी जाती है कि सेब में हरी पंखुड़ी से गुलाबी पंखुड़ी की अवस्था में बोरिक एसिड 100 ग्राम, 100 ली. पानी तथा यूरिया 500 ग्राम, 100 ली.पानी का छिडक़ाव करें।
  • बागवानों को सलाह दी जाती है कि खिले हुए फूलों पर किसी प्रकार का छिडक़ाव न करें। ताकि परागण क्रिया में सहायक कीटों को काई नुकसान न हो।
  • मुख्यमंत्री खेत संरक्षण योजना के अंतरर्गत बंदनों व अन्य जंगली जानवरों से फसलों को बचाने के लिए सोलर व पॉवर फेंसिंग अनुदान पर लगवाने के लिए नजदीकी कृषि विभाग के अधिकारी से संपर्क करें।
  • सेब की गुलाबी कली अवस्था में स्कैब की रोकथाम के लिए मैंकोजब 600 ग्राम या प्रोपिनेब 600 ग्राम या स्कोल डिफाइनोकोनाजोल 30 मि.ली. प्रति 200 ली. पानी में घोल बनाकर छिडक़ाव करें।
  • सेब के पौधों की टहनियों के खुरदरे हिस्से में माईट जीव सर्दी में लाल रंग के अंडे देते हैं जिनसे हरी कली अवस्था में शिशु निकलते हैं। इसके लिए डॅामेंटट्री स्प्रे ऑयल या हॉर्टीकल्चर मिनरल ऑयल 4 लीटर प्रति 200 लीटर पानी में स्प्रे करें।
  • सेब की आधा इंच हरी कली अवस्था पर सैन्जोस्केल व माईट की रोकथाम के लिए स्प्रे ऑयल 4 लीटर  प्रति 200 लीटर प्रति में घोल बनाकर छिडक़ाव करें।
  • जिला शिमला के बागवानों को सलाह दी जाती है कि सेब के पौधों में रोगों कि रोकथाम हेतु एक ही कीटनाशक/ फंफूदनाशक का प्रयोग बार-बार न करें।

    कृषि उत्पादन बढ़ाने के लिए मिट्टी की अवश्य करवाएं जांच

    कृषि उत्पादन बढ़ाने के लिए मिट्टी की अवश्य करवाएं जांच

  • गेहूं में पीला रतुआ बीमारी के लक्षण दिखते ही प्रोपिकोनाजोल फफूंदनाशंक दवाई का 0.1 प्रतिशत 1 (मि.ली. दवाई 1 लि. पानी में घोल बनाकर) का छिडक़ाव करें तथा दूसरा छिडक़ाव यदि आवश्यक हो तो 15-20 दिनों के बाद करें।
  • जिला शिमला के बागवान भाई अपने सेब के बागीचों में एक तिहाई कैल्सियम नाइट्रेट खाद की मात्रा फूल खिलने से 15-20 दिन पहले सेब के तोलियों में अच्छी तरह से मिलाएं।
  • सेब की हरी कली अवस्था में सकैब बीमारी की रोकथाम के लिए कैप्टान 600 ग्राम या डोडीन 200 ग्राम या जीरम 600 ग्राम प्रति 200 लीटर पानी में घोल कर छिडक़ाव करें।
  • जिला शिमला के बागवानों को सूचित किया जाता है कि उद्यान विभाग से उपदान प्राप्ति हेतु अपने प्रकरणों के साथ आधार कार्ड और बैंक पासबुक की प्रतिलिपी अवश्य लगाएं क्योंकि अब उपदान राशि सीधे बागवानों के बैंक खातों में जमा होती हैं।
  • मौसम परिवर्तनशील, आंशिम बादल, दिन-रात के तापमान में हल्की बढ़ोतरी व तेज हवा की संभावना से खेतों में फ्रांसबीन, खीरा, करेला और कद्दू की बिजाई 45×15 सें.मी की दूरी पर करें। स्ट्रॉबेरी में बेवेस्टिन 100 ग्रा. 200 ली. पानी के घोल को छिडक़े, मौनगृह की सफाई करें।
  • गेहूं की फसल में अगर पीला रतुआ व करनाल बंट रोग दिखे तो प्रोपिकोनाजोल 25 ई.सी. का 0.1 प्रतिशत घोल बनाकर (एक कनाल के लिए 30 मि.ली. दवा 30ली. पानी) छिडक़ाव करें।
  • सर्दियों में छोटे फलदार पौधों और नर्सरियों के पौधों को पाले से बचाने के लिए बनाई गए छप्पर को हटा दें। ताकि सूर्य की रोशनी उचित मात्रा में पौधों को मिल सके।
  • कृषि उत्पादन बढ़ाने व भूमि की उपयोगिता जानने हेतू अपने खेत की मिट्टी की जांच अवश्य करवाएं। अधिक जानकारी के लिए अपने नजदकी कृषि विभाग से संपर्क करें।
  • कृषि उपकरणों का उपयोग करते समय दुर्घटना होने पर किसान को 10000 से 150000 तक सहायता प्राप्त करने के लिए नजदीकी कृषि विभाग से संपर्क करें।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

28  +    =  32