“हैंडस ऑन साइंस” कार्यशाला 27 से 29 मार्च तक रिकांगपिओ में

“हैंडस ऑन साइंस” कार्यशाला 27 से 29 मार्च तक रिकांगपिओ में

  • कार्यशाला का उद्देश्य दूर स्थित विद्यालयों में विज्ञान शिक्षकों को प्रशिक्षित करना
  • “हैंडस ऑन साइंस” के माध्यम से विज्ञान के शिक्षक रचनात्मक ढंग से विज्ञान के उन्नत विषय सीखेंगे

शिमला: 1986 से राज्य विज्ञान, प्रौद्योगिकी एवं पर्यावरण परिषद (एस. सी. एस. टी. ई.) हि. प्र. की स्थापना के बाद से ही साइंस पॉपुलराइजेशन (विज्ञान लोकप्रियता) को कार्यक्रमों में शामिल किया गया है वर्तमान में राज्य परिषद की साइंस पॉपुलराइजेशन कार्यक्रमों के माध्यम से व्यापक पहुंच हुई है 5000 स्कूलों के 20000 वैज्ञानिक बच्चे बाल विज्ञान कांग्रेस कार्यक्रम में भाग लेते हैं जो हर साल उपखण्ड, जिला, राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित होते हैं।

“हैंडस ऑन साइंस” पर वर्तमान कार्यशाला राज्य विज्ञान, प्रौद्योगिकी एवं पर्यावरण परिषद की गतिविधियों का एक हिस्सा है हिमाचल प्रदेश साइंस पॉपुलराइजेशन कार्यक्रम के तहत यह तीन दिवसीय आवासीय प्रशिक्षण कार्यशाला है, जो कि किन्नौर, चम्बा, लाहौल और स्पिति एवं कांगड़ा जिले में होने वाले चार कार्यशालाओं की श्रंखला में पहली है जो कि विज्ञान अध्यापकों और इको क्लब संचालको के लिए आयोजित की जा रही है।

कार्यशाला का उद्देश्य दूर स्थित विद्यालयों में विज्ञान शिक्षकों को प्रशिक्षित करना है जहां कोई इंटरनेट और जन मीडिया सुविधा नहीं है। “हैंडस ऑन साइंस” के माध्यम से विज्ञान के शिक्षक रचनात्मक ढंग से विज्ञान के उन्नत विषय सीखेंगे। यह अलग-अलग वैज्ञानिक सिद्वांतों को आसानी से समझनें में उनकी सहायता करेगा और वे अपने छात्रों को इन वैज्ञानिक सिद्वांतो और प्रयोगों को आसानी से सिखाने की स्थिति में होंगे।

प्रस्तावित कार्यशाला वैज्ञानिक अवधारणाओं को उदाहरण सहित 50 से 60 टी.जी.टी/पी.जी.टी शिक्षकों के समक्ष रखा जा रहा है आशा है कि वर्तमान कार्यशाला रचनात्मक माध्यम से विज्ञान सीखनें के क्षेत्र में एक असम्भव मील का पत्थर साबित होगी।  कार्यशाला का उदघाटन नरेश कुमार लठ, उपायुक्त, किन्नौर द्वारा होगा रोहित मालपानी, पुलिस अधीक्ष इस अवसर के दौरान जिला किन्नौर, सम्मानित अतिथि होंगे।

डा. बी के त्यागी, वैज्ञानिक ई, विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग, स्वायत निकाय विग्राण प्रसन, कार्यशाला के मुख्य संसाधन व्यक्ति (रिसोर्स परसनद्) होंगे। कुणाल सत्यार्थी, आई. एफ.एस, संयुक्त सदस्य सचिव, राज्य विज्ञान, प्रौद्योगिकी एवं पर्यावरण परिषद कार्यशाला के दौरान उपस्थित रहेंगे।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *