नागरिकों की सुविधा के लिए शहरी विकास की अधिकतम सेवाएं ऑनलाईन : सुधीर शर्मा

नगर नियोजन विभाग शीघ्र ही निर्माणाधीन भवनों में अनियमितता रोकने हेतु पूर्ण कालिक पर्यवेक्षण को बनाएगा अनिवार्य

  • वास्तुकार व निजी पेशेवर जारी कर सकेंगे ढांचा स्थिरता प्रमाण पत्र
  • सभी निजी पेशेवर नगर एवं नियोजन विभाग में कर सकते हैं पंजीकरण के लिए ऑन-लाईन आवेदन
नगर नियोजन विभाग शीघ्र ही निर्माणाधीन भवनों में अनियमितता रोकने के लिए पूर्ण कालिक पर्यवेक्षण को अनिवार्य बनाएगा

नगर नियोजन विभाग शीघ्र ही निर्माणाधीन भवनों में अनियमितता रोकने के लिए पूर्ण कालिक पर्यवेक्षण को अनिवार्य बनाएगा

शिमला: हिमाचल सरकार ने प्रथम श्रेणी वास्तुकार तथा अन्य प्रथम श्रेणी निजी पेशेवरों को कम एवं मध्यम जोखिम भवनों के मामले में ढांचा स्थिरता प्रमाण पत्र जारी करने के लिए अधिकृत किया है।

शहरी विकास एवं नगर नियोजन मंत्री सुधीर शर्मा ने इस सम्बन्ध में आज यहां जानकारी देते हुए कहा कि दो से तीन मंजिला आवासीय भवनों तथा 15 से 30 डिग्री ढलान से ऊपर निर्मित भवनों तथा एक मंजिला भवन जो 15 डिग्री से कम ढलान पर निर्मित किए गए हैं, ऐसे भवन कम जोखिम वाले भवन हैं। सभी निजी पेशेवर नगर एवं नियोजन विभाग में पंजीकरण के लिए ऑन-लाईन आवेदन कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि हालांकि, निपुण ढांचा अभियंता सभी प्रकार के भवनों के लिए ढांचा स्थिरता प्रमाण जारी करने के लिए पूरी तरह सक्षम हैं। उन्होंने कहा कि विभाग के साथ पंजीकृत कुल 995 निजी पेशेवरों में से 48 ढांचा इंजीनियर और 432 प्रथम श्रेणी पेशेवर हैं।

सुधीर शर्मा ने कहा कि वैधानिक अनुपालना के लिए नगर नियोजन विभाग शीघ्र ही निर्माणाधीन भवनों में अनियमितता रोकने के लिए पूर्ण कालिक पर्यवेक्षण को अनिवार्य बनाएगा।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *