हिमाचल के प्राचीन "प्रजातंत्र"

हिमाचल के प्राचीन “प्रजातंत्र”

जनपदों का आविर्भाव वैदिकयुग के अंत में हुआ प्रतीत होता है

जनपदों का आविर्भाव वैदिकयुग के अंत में हुआ प्रतीत होता है

जनपदों का आविर्भाव वैदिकयुग के अंत में हुआ प्रतीत होता है। जन अपने को किसी विशेष ऋषि की संतान मानते थे, वहीं गोत्र कहलाता था। प्रत्येक जन में अनेक कुटुंब होते थे और विभिन्न कुटुंबों के समुदाय का एक जन होता था। ऋगवेद में जनों का उल्लेख है, जन-पदों  स्थायी राज्यों का नहीं। जब ब्राह्मण ग्रंथों, दर्शनों की रचना हुई उस काल में जनपदों का उदय हुआ और देश में स्थापना होती गई। ये जनपद राजनीतिक, सांस्कृतिक और आर्थिक दृष्टि से इकाई रूप में उभरे। इन जनपदों में शांति, सुव्यवस्था और आर्थिक दृष्टि से इकाई रूप में उभरे। इन जनपदों में शंति, सुव्यवस्था और धर्म नीति की स्थापना राजतंत्र से अधिक विकसित और सुदृढ़ बुनियादों पर हुई। भाषा, धर्म, अर्थ, संस्कृति और व्यवस्था सभी दृष्टि से जनपदें पक्की थी कि सहस्त्रों वर्षों तक उनके नैतिक ढांचे अडिग, अचल बन रहे।

  • पहाड़ों में छोटे-छोटे जनपदों में जनसाधारण का जोर रहा

जनपद दो प्रकार के थे, एक राज और दूसरा गणाधीन। अधिकांश जनपदों की सत्ता क्षत्रियों के हाथें में थी। इनमें और जातियों के लोग तथा वर्णों के लोग भी रहते थे। एक राज जनपदों में कम्बोज, गान्धार, मद्र आदि थे। गणाधीन संघ राज्य अधिक थे। इनमें सत्ता सम्पूर्ण गण निहित थी।  पहाड़ों में छोटे-छोटे जनपदों में जनसाधारण का जोर रहा। जनपदों को अलग करने वाली प्राकृतिक सीमाएं नदी-नाले, पर्वत शिखर आदि हुआ करते थे। जनपद एक प्रकार से छोटे स्वतंत्र राज्य थे, जो एक जैसे देवताओं को मानते थे। एक जनपद दूसरे को परास्त कर देता था परंतु उसे नष्ट नहीं करता था। पौराणिक काल में इन जनपदों की संख्या 175 तक पहुंच गई। पाणिनी काल तक ये पूर्ण विकास पर पहुंच गए। पाणिनी ने पश्चिमी हिमालय के जनपदों का स्पष्ट वर्णन किया है। इनके दो समुह थे- एक त्रिर्गत से दार्वा भिसास तक और दूसरा सिंध से कापिशीकम्बोज तक विस्तृत भूभाग। पहले प्रदेश में त्रिर्गत, गब्दिका, युगन्धर, कालकूट, भरव्दाज कुलूट और कुलिंद आदि जन-पद थे। पहाड़ी जनपदों का दूसरा प्रदेश भारत के उत्तर-पश्चिमी भागों में सिंधु नदी से कम्बोज तक फैला था। राजनीतिक व्यवस्था की दृष्टि से ये पर्वतीय राज्य आयुधजीवी संघ शासन को मानते थे।

  • जनपदों ने अपने समृद्ध काल में तांबे और चांदी की मुद्राएं चलाई

इन जनपदों ने अपने समृद्ध काल में तांबे और चांदी की मुद्राएं चलाई। मुद्राओं का क्रयमूल्य अधिक था और जीवन उपयोगी वस्तुएं खरीद सकते थे। एतिरेय और बृहदारण्यकोपनिषद में जनपदों का वर्णन है। उत्तर मद्र हिमालय में उत्तर कुरू का पड़ोसी देश था। दक्षिणी मद्र की सीमाएं स्यालकोट के निकट थीं। मद्रों की राजधानी स्यालकोट में शूरवीर क्षत्रिय लिखा है। ब्राह्मण-काल में ये विद्या और पाण्डित्य के लिए प्रसिद्ध थे।

  • पाणिनी ने  किया है त्रिगर्त देश के आयुधजीवी संघों का उल्लेख

त्रिगर्त: पाणिनी ने त्रिगर्त देश के आयुधजीवी संघों का उल्लेख किया है। यह रावी, व्यास और सतलुज तीन नदियों के बीच क्षेत्र था, पुराना नाम जलंधरायण भी था। वृहत् संहिता और महाभारत में भी इसका वर्णन है। महाभारत में राजा सुशर्मचंद्र का उल्लेख है। त्रिगर्त के राजा सूर्य वर्मा का नाम मिलता है। यहां का प्रथम राजा भूमि चंद्र हुआ है। युधिष्ठिर के राजसूय यज्ञ में त्रिगर्त का राजा उपहार लेकर आया। मार्कण्डेय, मत्सय पुराणों में इसे पर्वतीय प्रदेश बताया है। पाणिनी ने त्रिगर्त नामक संघ राज्यों का उल्लेख कर-कोण्डोपरथ, दाण्डकि, कोष्टकि, जालमनि, बह्यगुप्त, जानकि- त्रिगर्त-षष्ठ कहा है। यहां के लोग वीरता के लिए प्रसिद्ध थे।

  • औदम्बरगण अपने को मानते हैं विश्वमित्र का वंशज

औदुम्बर गण: पाणिनी, महाभारत, विष्णु पुराण, वृहत्संहिता में औदुम्बर देश का उल्लेख है। इनका यह देश, रावी, व्यास नदियों की ऊपरी दूनों में रहा होगा। जिस की पुष्टि मुद्राओं और बौद्ध ग्रंथों से होती है। पठानकोट,  नूरपुर आदि भी औदुम्बर देश में थे। ये औदम्बरगण अपने को विश्वमित्र का वंशज मानते हैं। औदुम्बर के क्षत्रियों को औदुम्बरक कहा गया। इन्होंने मुद्राएं भी चलाई जो ज्वालामुखी हमीरपुर स्थानों में प्राप्त हुईं। यह भारतीय ढंग की हैं। मुद्राओं पर ब्राह्मी, खरोष्टी दोनों लिपियों में राजा का नाम, गण का नाम मिलता है। इन पर शिवदास, रूद्रदास, महादेव और धरघोश चार राजाओं के  नाम हैं। चांदी की मुद्राएं भी मिली हैं। इन पर खरोष्टी में यह देवस राजो धर घोषणा औदुम्बरिस लिखा है। धरघोष महादेव का उपासक था। ब्रिटिश संग्रहालय में चार शासकों की मुद्रांए सुरक्षित हैं। औदुम्बर मुद्राओं से भारतीय वास्तुकला पर प्रकाश पड़ता है। मु्रदाओं पर परशु, त्रिशुल चिन्हों से सिद्ध होती है कि औदुम्बर शैव मतानुयायी थे।

  • त्रिगर्त के साथ लगता जनपद था कुलूत

    त्रिगर्त के साथ लगता जनपद था कुलूत

    त्रिगर्त के साथ लगता जनपद था कुलूत

कुलूत: त्रिगर्त के साथ लगता कुलूत जनपद था। इसके एक ओर औदुम्बर देश ओर दूसरी ओर कुलिंद जनपद था। यह व्यास नदी की ऊपरी घाटी मे फैला था। इसका वर्णन रामायण, महाभारत, वृहत् संहिता, र्माकण्डेय पुराण, विष्णु पुराण में मिलता है। यह त्रिगर्त के छोड़ सबसे प्राचीन है। मुद्रा राक्षस से पता चलता है कि कुलूत के राजा चित्र वर्मा ने चद्रगुप्त मौर्य का विरोध किया था।

एक मुद्रा पर राजान: कुलूतस्य वीरायास्य उल्लेख है जो ईसा से दो शताब्दी पूर्व की मानी जाती है। यह ब्राह्मी लिपि में है।

  • महाभारत काल में कौरवों की ओर से लड़े थे कुलिंद

कुलिंद: यह जनपद व्यास नदी के ऊपरी भाग से लेकर यमुना नदी तक फैले हुए हिमालय के पर्वतीय प्रदेश में विस्तृत था। हिमाचल की निचली पर्वत श्रेणियां और शिवालिक की पहाडिय़ां इसी जनपद के भूभाग थे। इसके पश्चिम में त्रिर्गत और कुलूत जनपद स्थित थे। इनकी सीमा “शतुदु्र” सतलुज रही होगी। सोलन, शिमला जिले अंबाला, सराहनपुर और सूगह तक थी। महाभारत काल में कुलिंद कौरवों की ओर से लड़े थे। कुलिंद गण क्षत्रिय थे और पेशेवर लड़ाकू थे। आज के कनैत कुलिदों के वंशज हैं। इनका देश पार्वत्य था। मुद्राओं में नाम कुलिंद मिलता है। पहली मुद्रा पर मृग की आकृति और अमोघमूर्ति का नाम लिखा है। मुद्राएं कई स्थानों-हमीरपुर, ज्वालामुखी, अम्बाला, सहारनपुर, मंडी, देहरादून, गढ़वाल में मिली है। अंबाला सहारनपुर से उत्तर पहाड़ी प्रदेश में व्यास से यमुना की उत्तर पश्चिमी धारा तौंस नदी तक कुलिंद या कुनिन्द शासकों का राज्य था। मुद्राओं पर अमोधमृत्स महरजस राज्ञकुणदस ब्रह्मी में लिखा है। अमोध के अतिरिक्त कुलिन्दगण छत्रेश्वर नामक राजा की तांबे की मुद्रा पर त्रिशुल लिए शिव की मूर्ति है उस पर भगवान छत्रेश्वर महामन अंकित हैं।

  • महाभारत युद्ध के बाद से पाणिनी तथा बौद्ध काल भारतीय इतिहास एक धूमिकाल से गुज़रा

शकों और हूणों ने कुणिन्दां पर आक्रमण किया। कुनिंदों ने कुषाण राज्य को नष्ट करने के लिए एक दृढ़ संघ बनाया था। इस प्रकार यमुना से रावी नदी तथा जम्मू तक के पर्वतीय प्रदेश में छोटे-बड़े जनपदों का एक जाल बिछा था। ये जनपद उदीच्य जनपद या पर्वतीय संघ कहलाते थे। कब अस्तित्व में आए, निश्चित नहीं कहा जा सकता, किन्तु महाभारत काल में स्थापित हो चुके थे। ये जनपद स्वतंत्र न होकर कुरू राज्य के आधिपत्य में रहे होंगे। महाभारत युद्ध के बाद से पाणिनी तथा बौद्ध काल भारतीय इतिहास एक धूमिकाल से गुज़रा। कोई शाक्तिशाली राजा नहीं हुआ अत: जान पड़ता है कि ये जनपद स्वंतत्ररूप  मौर्य काल तक चलते रहे।

चन्द्रगुप्त मौर्य के महामंत्री चाणक्य ने हिमालय प्रदेश के राजा पर्वतक से मैत्री सन्धि की थी। यहां से सैनिक भी लिए। मौर्य ने भारत को एक सूत्रबद्ध कर एक विशाल राज्य की स्थापना की। 210, 211 ई. पू. के करीब मौर्य साम्राज्य छिन्न-भिन्न होने लगा। पर्वतीय जनपद अलग होकर स्वतंत्र हो गए।

  • साभार:  हिमाचल प्रदेश का इतिहास

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *