यूनिवर्सल कार्टन के सम्बन्ध में आम बागवानों से की जाए चर्चा: बरागटा

बरागटा ने लगाया रोहित ठाकुर पर ओछी राजनीती करने का आरोप

शिमला: भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री नरेंद्र बरागटा ने सी.ए. स्टोर को लेकर प्रदेश कांग्रेस सरकार और जुब्बल कोटखाई के विधायक रोहित ठाकुर पर ओछी राजनीती करने का आरोप लगाया है। नरेंद्र बरागटा ने जारी प्रेस ब्यान में कहा की 22 सितम्बर 2015 को केंद्र सरकार ने एपीडा के माध्यम से हिमाचल प्रदेश में तीन सी. ए. स्टोर जिला चंबा के चुरह, जिला शिमला के खड़ापत्थर और कुल्लू जिला के पतलीकुहल में स्थापित करने कि मंजूरी प्रदान की। 20 अक्टूबर 2015 को एच.पी.ऍम.सी. और एपीडा के बीच इन सी.ए. स्टोर के निर्माण के लिए ऍम.ओ.यू. पर हस्ताक्षर किया गये जिसके निर्माण लागत पर 40% बैंक गारेंटी एच.पी.ऍम.सी. द्वारा करने का प्रावधान था । किन्तु एच.पी.ऍम.सी. द्वारा एपीडा को अपनी वितीय स्थिति ठीक न होने का हवाला देकर बैंक गारंटी देने में असमर्थता जताई  और प्रदेश सरकार के विश्वास पर 40% बैंक गारंटी पर छूट मांगी गयी । किन्तु बिना बैंक गारंटी के नियमानुसार इस योजना को कार्यान्वित नहीं किया जा सकता था और इसीलिए एपीडा ने दिनांक 22 दिसम्बर 2015 को बैंक गारंटी की सीमा को 40% से घटाकर 20% किया किन्तु उस पर भी एच.पी.ऍम.सी. ने बक गारंटी  देने से असमर्थता जताई और 10% बैंक गारंटी देने का प्रस्ताव दिया जिसे एपीडा ने स्वीकार कर दिया और 20 सितम्बर 2016 को एपीडा ने एच.पी.ऍम.सी. को संशोधित एम्.ओ.यू. स्वीकृति पत्र के साथ भेज दिया, किन्तु प्रदेश सरकार और एच.पी.ऍम.सी. द्वारा 14 महीनो तक स्वीकृत सी.ए. स्टोर के प्रोजेक्ट को अपनी लापरवाही और ढुलमुल रवैये द्वारा लटकाया गया और इसकी स्टेटस रिपोर्ट एपीडा को समय रहते नहीं दी गयी और अब कांग्रेसी नेता इस पर राजनीती करने पर उतर आये है जो शर्मनाक है।

नरेंद्र बरागटा ने सरकार की मंशा पर सवाल उठाते हुए पूछा की की यदि एच.पी.ऍम.सी. की वितीय स्थिति ठीक नहीं थी तो सरकार ने क्यों एच.पी.ऍम.सी. को जरुरी बैंक गारंटी के लिए धन मुहैया नहीं करवाया और अब राजनीती करने के लिए बागवानो को गुमराह करने का प्रयास कर रहे है।  पूर्व मंत्री नरेंद्र बरागटा ने कांग्रेस सरकार के नेताओ से सवाल पूछा की वे इन सभी बागवानी विकास योजनाओ को लेकर कब केंद्र सरकार के पास गये है और किस मंच से इन नेताओ ने विकास योजनाओ को लेने के लिए आवाज़ उठाई है।

जुब्बल कोटखाई के विधायक रोहित ठाकुर को इस तरह के आरोप लगाने से पहले अपने गिरेबान में झांक कर देखना चाहिए और उन्होंने अपने पिछले चार वर्षो के कार्यकाल में कौन सी बागवानी विकास की योजना लाई है। नरेंद्र बरागटा ने विधायक रोहित ठाकुर से सवाल पूछे है कि वे बताये कि वर्ष 2009 से पूर्व उन्होंने कौन सी बागवानी योजनाये तत्कालीन कांग्रेस की केंद्र सरकार से हिमाचल प्रदेश और बागवानी के लिए लाई थी कितनी सब्जी मंडिया सी.ए. स्टोर, ग्रेडिंग पैकिंग हाउस बागवानो के लिए बनवाए गए थे।

 

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *