मुख्य सचिव पी मित्रा का पीजीआई में सफल आप्रेशन

ऑपरेशन के बाद पी मित्रा की सेहत में सुधार

मुख्य सचिव पी. मित्रा

हिमाचल प्रदेश के मुख्य सचिव पी. मित्रा

शिमला : हिमाचल प्रदेश के मुख्य सचिव पी मित्रा का पीजीआई में सफल आप्रेशन किया गया। अब उनकी सेहत में तेजी से सुधार हो रहा है। मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने पी मित्रा के जल्द स्वस्थ होने की कामना की है। उधर उद्योग मंत्री मुकेश अग्निहोत्री ने चंडीगढ़ जाकर पीजीआई में मुख्य सचिव का हाल जाना और उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना भी की। उल्लेखनीय है कि मुख्य सचिव को गत दिवस ब्रेन में बड़ी क्लॉटिंग होने के कारण चंडीगढ़ रैफर किया गया था, क्योंकि उन्हें तत्काल सर्जरी की आवष्यकता थी। जानकारी के मुताबिक पिछले 5-6 महीने से वह टांगों में तकलीफ महसूस कर रहे थे। मगर बीते दिन दूसरे शनिवार के कारण कार्यालय में छुट्टी थी। इसके चलते वह पास ही के किसी गांव गए हुए थे। यहां पर किसी ने नोटिस किया कि पी मित्रा लगड़ा रहे है, तो पी मित्रा ने आईजीएमसी के मेडिकल अधीक्षक रमेश चंद को फोन किया था। इस पर उन्हें अस्पताल आने की बात कही गई। टैस्ट रिपोर्ट आने के बाद डॉ रमेश ने ही बताया था कि उनके ब्रेन में काफी क्लॉटिंग पाई गई है। इसी के चलते उन्हें पीजीआई जाने की हिदायत दी गई थी। अब रविवार को उनका पीजीआई में सफल आप्रेषन हुआ है। साथ ही उनकी हालत में तेजी से सुधार आ रहा है।

आइजीएमसी में बिना समय गंवाए मुख्य सचिव पी मित्रा को पीजीआइ ले जाना राहत भरा रहा। पीजीआइ के न्यूरोलॉजी विभागाध्यक्ष डॉ. एसके गुप्ता की टीम ने 95 मिनट में मित्रा का सफल ऑपरेशन किया। ऑपरेशन के दौरान उनके दिमाग में जमे खून के थक्कों को साफ कर दिया गया। मित्रा को सब ड्यूरल हैमरेज का अटैक पड़ा था। अब मित्रा खतरे से बाहर हैं। इसी बीच मुंबई से मित्रा के छोटे भाई सुशांतो चंडीगढ़ पहुंच गए हैं। मित्रा का हाल पूछने के लिए स्वास्थ्य मंत्री कौल सिंह ठाकुर, उद्योग मंत्री मुकेश अग्निहोत्री व मुख्य संसदीय सचिव नीरज भारती भी चंडीगढ़ पहुंचे हैं।

ऑपरेशन करने वाले डॉ. एसके गुप्ता का कहना था कि दिमाग में कई दिन से खून का रिसाव हो रहा था। इसकी वजह से उनकी एक टांग में लंगड़ापन आ गया था। इलाज के लिए सही समय पर यहां लाने से उनको फायदा हुआ है। टीम ने सभी औपचारिक निरीक्षण के बाद सुबह सवा आठ बजे ऑपरेशन शुरू किया था। फिलहाल मित्रा आइसीयू में हैं और खतरे से बाहर हैं। वे पूरी तरह से सामान्य बात कर रहे हैं लेकिन अभी उन्हें ऑब्जरवेशन पर रखा गया है।

सार्वजनिकवितरण प्रणाली में फर्जीवाड़े को रोकने के लिए सरकार इस योजना को आधार योजना से जोड़ने जा रही है। इसके लिए खाद्य एवं आपूर्ति विभाग ने प्रदेश के सभी राशन कार्ड धारकों से उनका आधार नंबर डिपुओं में जमा करवाने के लिए कह दिया है। आधार नंबर को जमा करवाने के लिए विभाग ने लोगों को टाइम बाउंड कर दिया है। विभाग ने लोगों को डिपुओं में आधार नंबर जमा करवाने के लिए 30 अप्रैल तक का समय दिया है। लोगों को अपना या अपने परिवार के किसी एक सदस्य के आधार एवं मोबाइल नंबर संबंधित डिपो होल्डर के पास दर्ज करवाना होगा। इस संबंध में और अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए राशनकार्ड धारक डिपु-होल्डर से प्राप्त कर सकते हैं।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *