कांग्रेस प्रदेश में बढ़ रही है मिशन रिपीट की ओर

मुख्यमंत्री ने कीं सुन्नी में अनेक विकासात्मक परियोजनाएं लोकार्पित

शिमला: मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने आज शिमला जिले के सुन्नी में जीर्णाद्धार के उपरांत हिमाचल प्रदेश राज्य सहकारी बैंक के परिसर का लोकार्पण किया। उन्होंने सुन्नी बैंक शाखा से हि.प्र. राज्य सहकारी बैंक की सुन्नी शाखा से जलोग शाखा का भी ऑनलाइन उद्घाटन किया जो राज्य में इस बैंक की 219वीं शाखा है। सुन्नी में इस बैंक की शाखा अत्याधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित है और इसके खुलने से इस क्षेत्र के लोगों की लम्बे समय से चली आ रही मांग हुई है। मुख्यमंत्री ने प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में इस बैंक की अधिक से अधिक शाखाएं खोलने तथा रिकार्ड लाभ अर्जित करने के लिए बैंक के अध्यक्ष हर्ष महाजन को बधाई दी।  महाजन ने बताया कि बैंक ने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया से 22 नई शाखाएं, दो विस्तार कांउटर खोलने की मंजूरी प्राप्त कर ली है। इनमें से अधिकतर शाखाएं प्रदेश के दूर-दराज तथा ग्रामीण क्षेत्रों में खोली जाएंगी जिसमें अत्याधुनिक सुविधाएं होंगी।

मुख्यमंत्री ने ग्रामीण विकास बैंक की शाखा का भी उद्घाटन किया तथा 70 लाख रूपये की लागत से निर्मित होने वाले नगर पंचायत भवन सुन्नी की आधारशिला रखी। उन्होंने 71.63 लाख की लागत से निर्मित पुलिस स्टेशन भवन तथा 88 लाख से निर्मित नागरिक अस्पताल के टाइप-फॉर आवासों का भी उद्घाटन किया। इसके अतिरिक्त उन्होंने राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला, सुन्नी के विज्ञान खण्ड का उद्घाटन किया जिस पर 1.83 करोड़ रूपये व्यय किए गए हैं।

वीरभद्र सिंह ने नागरिक अस्पताल में व्हील चेयर एवं स्टै्रचर तथा बाल आश्रम सुन्नी के बच्चों को टै्रक सूट वितरित किए जिन्हें भारतीय स्टेट बैंक ने दान किया है। उन्होंने भारतीय स्टेट बैंक द्वारा ही दान किए गए दो कूलर एवं दो वाटर प्यूरीफायर भी राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला, सुन्नी को समर्पित किए। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला सुन्नी के स्टेडियम को स्तरोन्न्त करने और इसके सौंदर्यीकरण की घोषणा की तथा सहकारी बैंक को बाल आश्रम में वाटर कूलर स्थापित करने के निर्देश दिए।

उन्होंने कहा कि क्षेत्र का विधायक होने के नाते यहां का अधिक से अधिक विकास करना उनकी जिम्मेदारी है। उन्होंने गत चार वर्षों में शिमला ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र में हुए विकासात्मक गतिविधियों की जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर लोगों की समस्याओं को सुना तथा अधिकारियों को इनके शीघ्र समाधान करने के निर्देश दिए। बाद में उन्होंने बाल आश्रम का निरीक्षण किया तथा आश्रम में आवश्यक मुरम्मत कार्यार् एवं सुधार लाने के निर्देश दिए। उन्होंने आश्रम के बच्चों के लिए 50 बिस्तरों की क्षमता वाले छात्रावास के निर्माण की घोषणा की।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *