सरल हिन्‍दी में अधिक से अधिक सरकारी कार्य करने पर दिया जाए बल : रमेश नारायण मिश्र

  • एसजेवीएन द्वारा नगर राजभाषा कार्यान्‍वयन समिति, शिमला (कार्यालय-2) की बैठक का आयोजन
  • राजभाषा कार्यान्‍वयन के क्षेत्र में सदस्‍य कार्यालयों द्वारा सराहनीय प्रयास : नन्‍द लाल शर्मा
  • बैंकों के प्रतिनिधियों से डिजीटिलाईजेशन बारे आम जनता को प्रशिक्षित करने का आह्वान
  • बैठक में केंद्रीय सरकारी कार्यालयों, उपक्रमों तथा बैंकों से 34 वरिष्‍ठ अधिकारियों ने लिया हिस्सा
  • बैठक में की गई केंद्रीय सरकारी कार्यालयों में हिंदी के प्रयोग की समीक्षा
  • पिछले वर्ष की तरह इस वर्ष भी राजभाषा सेमिनार/संगोष्ठियों का आयोजन किए जाने संबंधी निर्णय
  • विभिन्‍न हिंदी प्रतियोगिताओं का आयोजन किए जाने पर भी बनी सहमति
एसजेवीएन द्वारा नगर राजभाषा कार्यान्‍वयन समिति, शिमला (कार्यालय-2) की बैठक का आयोजन

एसजेवीएन द्वारा नगर राजभाषा कार्यान्‍वयन समिति, शिमला (कार्यालय-2) की बैठक का आयोजन

शिमला : केंद्रीय सरकारी कार्यालयों, उपक्रमों एवं बैंकों में राजभाषा हिन्‍दी के प्रयोग को बढ़ाने के उद्देश्‍य से बैठक का आयोजन किया गया। भारत सरकार द्वारा एसजेवीएन लिमिटेड के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक की अध्‍यक्षता में गठित नगर राजभाषा कार्यान्‍वयन समिति शिमला (कार्यालय-2) की बैठक का आयोजन आज (1 दिसंबर को) एसजेवीएन के कारपोरेट कार्यालय परिसर शनान, शिमला में किया गया। बैठक की अध्‍यक्षता नगर राजभाषा कार्यान्‍वयन समिति, शिमला (कार्यालय-2) एसजेवीएन के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक रमेश नारायण मिश्र ने की। इस अवसर पर निगम के निदेशक (कार्मिक), नन्‍द लाल शर्मा उपस्थित थे।

समिति की बैठक में शिमला स्थित केंद्रीय सरकारी कार्यालयों, उपक्रमों तथा बैंकों से 34 वरिष्‍ठ अधिकारियों ने भाग लिया। बैठक में केंद्रीय सरकारी कार्यालयों में हिंदी के प्रयोग की समीक्षा की गई तथा भारत सरकार द्वारा निर्धारित लक्ष्‍यों को प्राप्‍त करने की दिशा में विचार-विमर्श किया गया। इसके अतिरिक्‍त, बैठक में केंद्रीय सरकारी कार्यालयों, उपक्रमों एवं बैंकों के कार्मिकों के लिए पिछले वर्ष की तरह इस वर्ष भी राजभाषा सेमिनार/संगोष्ठियों का आयोजन किए जाने संबंधी निर्णय लिया। समिति द्वारा विभिन्‍न हिंदी प्रतियोगिताओं का आयोजन किए जाने पर भी सहमति बनी।

  • एसजेवीएन के निदेशक (कार्मिक) नन्‍द लाल शर्मा

    एसजेवीएन के निदेशक (कार्मिक) नन्‍द लाल शर्मा

    राजभाषा कार्यान्‍वयन के क्षेत्र में सदस्‍य कार्यालयों द्वारा सराहनीय प्रयास : नन्‍द लाल शर्मा

  • बैंकों के प्रतिनिधियों से डिजीटिलाईजेशन बारे आम जनता को प्रशिक्षित करने का आह्वान

बैठक में उपस्थित निदेशक (कार्मिक), नन्‍द लाल शर्मा ने इस अवसर पर कहा कि राजभाषा कार्यान्‍वयन के क्षेत्र में सदस्‍य कार्यालयों द्वारा सराहनीय प्रयास किए गए हैं। तथापि, जहां कमी है, वहां अधिक प्रयास किए जाने की आवश्‍यकता है। उन्‍होंने बैंकों के प्रतिनिधियों से डिजीटिलाईजेशनके बारे में आम जनता को प्रशिक्षित करने का भी आह्वान किया।

  • सरल हिन्‍दी में अधिक से अधिक सरकारी कार्य करने पर दिया जाए बल : रमेश नारायण मिश्र

    एसजेवीएन लि. के अध्‍यक्ष एवं प्रबंधन निदेशक आर.एन.मिश्र

    एसजेवीएन लि. के अध्‍यक्ष एवं प्रबंधन निदेशक आर.एन.मिश्र

बैठक की अध्‍यक्षता करते हुए निगम के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, रमेश नारायण मिश्र ने कहा कि सरल हिन्‍दी में अधिक से अधिक सरकारी कार्य करने पर बल दिया जाना चाहिए। हिंदी में काम करना कठिन नहीं है, केवल निरंतर मॉनीटरिंग की आवश्‍कता है। उन्‍होंने कहा कि सभी कार्यालय राजभाषा विभाग द्वारा निर्धारित लक्ष्‍यों को ध्‍यान में रखते हुए  अपने स्‍तर पर वार्षिक कार्य योजना बनाकर लक्ष्‍य प्राप्‍त करें। उन्‍होंने आगे कहा कि सभी देशों के लोग अपनी-अपनी भाषा में काम करते हैं और उन देशों ने अपने यहां प्रगति की है। हमारे यहां मूलरूप से संस्‍कृत बोली जाती थी। परंतु समय के साथ नए-नए भाषा के रूप सामने आए। हिन्‍दी भाषा का भी प्रयोग बहुत बढ़ा है। हमारे प्रधानमंत्री, नरेन्‍द्र मोदी जहां भी जाते हैं, हिन्‍दी में ही बात करते हैं। अधिकांश भाषण भी हिन्‍दी में ही देते हैं। अनुवाद किए गए शब्‍दों से नहीं, बल्कि सरल हिन्‍दी शब्‍दों के प्रयोग से हम हिन्‍दी भाषा को बढ़ावा देने के प्रयास करें। जैसे हम कोई संगीत सुनते हैं तो उसमें अपना एक रिद्म होता है। उसी तरह हमारी हिन्‍दी भी संगीतमय बने, हिन्‍दी में काम करते हुए हम उसी रिद्म को महसूस करें। हम इस बारे में और अधिक प्रयास करें तभी संगीतमय वातावरण से हम बेहतर हिन्‍दी का माहौल तैयार कर पाएंगे।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *