शिमला में 17वीं राष्ट्रीय स्तरीय डॉ. वाईएस परमार वालीबॉल प्रतियोगिता आयोजित

शिमला में 17वीं राष्ट्रीय स्तरीय डॉ. वाईएस परमार वालीबॉल प्रतियोगिता आयोजित

  • प्रदेश में 45 खेल स्टेडियमों पर 24 करोड़ व्ययः  नन्द लाल
  • इस प्रतियोगिता में 10 टीमें ले रही हैं भाग

शिमला : प्रदेश सरकार द्वारा खेलों के विकास की वचनबद्धता को निभाते हुए 24 करोड़ रुपये व्यय कर प्रदेश में 45 खेल स्टेडियम का निर्माण करवाया जा चुका है। यह जानकारी आज मुख्य संसदीय सचिव नन्द लाल ने युवा सेवा एवं खेल विभाग द्वारा आयोजित 17वीं राष्ट्रीय स्तरीय डॉ. वाईएस परमार वालीबॉल प्रतियोगिता के उद्घाटन पर दी। उन्होंने बताया कि शिमला में 450 करोड़ रुपये की लागत का इंडोर खेल परिसर खिलाड़ियों के लिए प्रेरणा का स्त्रोत साबित हुआ है। इस परिसर में बैडमिंटन, बॉक्सिंग, टेबल टैनिस, वालीबॉल, जुड्डो, ताईक्वांडो तथा शूटिंग रेंज आदि उपलब्ध करवाई गई है। अत्याधुनिक मल्टी जिम भी इस स्टेडियम में उपलब्ध करवाया गया है। रोहड़ू में 11 करोड़ की लागत से इंडोर स्टेडियम का कार्य प्रगति पर है, जिसे जल्द ही खिलाड़ियों को समर्पित कर दिया जाएगा।

जिला रामपुर के दत्तनगर में 6 करोड़ 24 लाख की लागत से खेल छात्रावास का निर्माण करवाया जा रहा है। खिलाड़ियों के लिए अन्य सुविधाएं भी प्रदेश सरकार द्वारा उपलब्ध करवाई जा रही है। मुख्यमंत्री के विशेष निजी सचिव एवं निदेशक युवा सेवा एवं खेल विभाग राकेश शर्मा ने बताया कि तीन दिवसीय इस प्रतियोगिता में 10 टीमों के 160 खिलाड़ी, कोच शामिल हैं। उन्होंने बताया कि पुरूष वर्ग में वैस्टर्न रेलवे, इंडियन एयर फोर्स, आईटीबीपी, पंजाब पुलिस, एचएसआईडीसी हरियाणा व हिमाचल के खिलाड़ी शामिल हैं, जबकि महिला वर्ग में वैस्टर्न रेलवे, पंजाबी यूनिवर्सिटी पटियाला, दिल्ली राज्य व हिमाचल के खिलाड़ी शामिल हैं।

उन्होंने इस आयोजन के लिए वालीबॉल फैडरेशन ऑफ इंडिया का भी आभार व्यक्त किया। उन्होंने बताया कि ऐसे आयोजनों से जहां प्रदेश के खिलाड़ियों का मनोबल बढ़ता है, वहीं अन्य राज्यों के खिलाड़ियों के साथ परस्पर संवाद कायम कर वालीबॉल गतिविधियों के विकास में हो रहे नए प्रयासों के संबंध में भी जानकारी प्राप्त होती है। इस अवसर पर संयुक्त निदेशक युवा सेवा एवं खेल विभाग सुमन रावत मेहता, जिला खेल अधिकारी प्रेम शर्मा व अन्य अधिकारी व खिलाड़ी उपस्थित थे।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *