हिमाचल प्रदेश का “मंडी” खुले में शौच मुक्त और सबसे स्वच्छ पर्वर्तीय जिला घोषित

  • भारत को 2019 तक पूर्णतः स्वच्छ बनाने के लिए प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्रियों ने किये घोषणा पत्र पर हस्ताक्षर

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री, मुख्य मंत्री, राज्यो और केंद्र शासित प्रदेशों के मंत्रियों समेत भारत के शीर्ष नेतृत्व ने आज नई दिल्ली में देश को 2019 तक खुले में शौच मुक्त बनाने के लिए वचनबद्धता के घोषणा पत्र पर हस्ताक्षर किये। प्रधानमंत्री, केंद्रीय मंत्रियों, आंध्र प्रदेश, असम, छत्तीसगढ़, गोवा, हरियाणा और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्रियों और राज्यो/केंद्र शासित प्रदेशों के मंत्रियों ने इस घोषणा पत्र पर INDOSAN सम्मलेन के दौरान हस्ताक्षर किये। इसके अलावा ग्रामीण और शहरी निकायों के चुने हुए प्रतिनिधियों, जिलाधिकारियों और नगरनिगम आयुक्तों ने भी ऐसे ही घोषणा पत्र पर हस्ताक्षर किये।

इस अवसर पर शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू ने कहा की यह अब तक का सबसे बड़ा जन संग्रह है। देश में विभिन्न स्तर पर राजनीतिक नेतृत्व को साथ लेते हुए, स्वच्छता को मुख्यधारा में लाने का अपनी पहली तरह का प्रयास किया गया है। 21 शताब्दी में भारत को निरक्षरता और गंदगी फैलाने वाले लोगों से मुक्त होना है। उन्होंने कहा की स्वच्छ भारत के लिए पिछले दो वर्षो में मूड फॉर डेवलपिंग इंडिया (MODI) रहा, जिसकी धीमी शुरआत हुई पर ग्रामीण और शहरी भारत में इसके अच्छे क्रियान्वयन से अब इस मिशन ने रफ़्तार पकड़ ली है।

उन्होंने बताया की देश के 405 शहर खुले में शौच मुक्त हो गए है और अन्य 739 शहर मार्च तक यह दर्ज़ा प्राप्त कर लेंगे। अब तक शहरी क्षेत्रों में 24 लाख घरेलू शौचालय बनाए गए है और अन्य 19 लाख निर्माणाधीन है। 82,000 में से 20,000 वार्ड खुले में शौच से मुक्त है। 90,000 सामुदायिक शौचालय बनाए गए है और अन्य 1लाख 29 हज़ार निर्माणाधीन है।

11 संस्थानों और संगठन को स्वच्छता अभियान में उनके उल्लेखनीय कार्य के लिए प्रधानमंत्री द्वारा सम्मानित किया गया है। चंडीगढ़ और मैसूरु को दस लाख से अधिक जनसंख्या वाले स्वच्छ शहर, गंगटोक सर्वश्रेष्ठ पर्यटन स्थल, पुणे नगर निगम और स्वच्छ को-ऑपरेटिव सोसाइटी को सर्वश्रेष्ठ ठोस कचरा प्रबंधन , रानी की वाव, पटन, गुजरात को सबसे स्वच्छ सांस्कृतिक धरोहर स्थल, सूरत सबसे स्वच्छ रेलवे स्टेशन, पीजीआई चंडीगढ़ सबसे स्वच्छ चिकित्सालय, मंडी, हिमाचल प्रदेश खुले में शौच मुक्त और सबसे स्वच्छ पर्वर्तीय जिला, सिन्धुगुर्ग, महाराष्ट्र सबसे स्वच्छ मैदानी जिला और एनसीसी को देश भर में स्वच्छता गतिविधियों के लिए सम्मानित किया गया है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मण्डी जिला के आयुक्त संदीप कदम और बल्ह क्षेत्र की खण्ड विकास अधिकारी वसुन्धरा सूद को आज नई दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित एक दिवसीय इंडो-सेन-2016सम्मेलन में ये पुरस्कार प्रदान किए गए। केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री वैंकेया नायडू ने प्रदेश के शहरी विकास एवं आवास मंत्री मंत्री सुधीर शर्मा को शिमला व कुल्लू जिला में अम्रुत मिशन के दिशा-निर्देशों के अनुसार सक्रियता से कार्य करने और ई-गवर्नैंस व अन्य अनेक क्षेत्रों में अनुकरणीय पहल करने के लिए पुरस्कृत किया। प्रदेश के ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री अनिल शर्मा, शहरी विकास विभाग के निदेशक डा. आर.के. पूर्थी और नगर निगम शिमला के आयुक्त पंकज राय व अन्य उच्च अधिकारी भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

50  +    =  56