पर्यटन विकास निगम ने पूरे किये अपने 45 वर्ष, प्रदेश भर में हर्षोल्लास से मनाया स्थापना दिवस

हि.प्र.पर्यटन विकास निगम ने मनाया 45वां स्थापना दिवस

शिमला: हि.प्र. पर्यटन विकास निगम का 45वां स्थापना दिवस आज प्रदेश भर में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इस मौके पर निगम के उपाध्यक्ष हरीश जनारथा, प्रबन्ध निदेशक दिनेश मल्होत्रा तथा हि.प्र. पर्यटन विकास विकास निगम निदेशक मण्डल के सदस्यों ने शिमला, मनाली, चिन्तपूर्णी, बड़ोग, धर्मशाला, कुल्लू और नारकण्डा में वृक्षारोपण किया। इसके अतिरिक्त, पर्यटन विकास निगम के होटलों में ठहरने वाले अतिथियों को सम्मानार्थ एक व्यंजन भी परोसा गया तथा पुष्प भेंट कर उनका सत्कार किया गया।

होटल हालीडे होम शिमला, होटल कुंजम-मनाली तथा होटल धौलाधार-धर्मशाला में आने वाले प्रथम अतिथियों को पहली सितम्बर, 2016 को एक दिन का निःशुल्क ठहराव प्रदान किया गया। हि.प्र. पर्यटन विकास निगम मार्किटिंग कार्यालयों का भ्रमण करने वाले अतिथियों का मिठाईयों के साथ स्वागत किया गया। निगम की परिसम्पत्तियों को इस विशेष दिवस के अवसर पर प्रकाशमान व सुसज्जित किया गया था। निगम की गत चार दशकों के दौरान उपलब्धियों को याद करने, उनका सम्मान करने तथा मनाने के लिए प्रत्येक परिसर में कर्मचारी इकट्ठे हुए तथा भविष्य की योजनाओं पर भी चर्चा की गई।

प्रथम सितम्बर, 1972 को अस्तित्व में आने के उपरान्त से निगम ने हिमाचल प्रदेश में घरेलू एवं विदेशी पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए एक उत्प्रेरक, परिसंचालक एवं मुख्य प्रस्तावक के रूप में कार्य किया है।

निजी कम्पनियों ने विभिन्न स्थानों पर पर्यटन से जुड़ी गतिविधियों को केवल हि.प्र. पर्यटन विकास निगम द्वारा निजी उद्यमियों को दर्शाए गए मार्ग के उपरान्त ही आरम्भ किया। हि.प्र. पर्यटन विकास निगम ने हिमाचल प्रदेश के कम जाने जाने वाले क्षेत्रों को पर्यटन के लिए खोला तथा पर्यटकों के लिए इनका प्रचार किया। बीते वर्षों के दौरान निगम ने अपनी गतिविधियों का विस्तार एवं विविधिकरण करके, अपनी कार्यशैली को व्यापक रूप देकर राज्य के बहुआयामी सामाजिक आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। निगम 1507 कर्मचारियों के साथ राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में 60 होटल, 10 कैफे, 2 क्लब हाऊस तथा वाल्वों एवं डीलक्स बसों के बेडे का संचालन कर रहा है। हि.प्र. पर्यटन विकास निगम ऐसे पर्यटकों को जो शिमला तथा मनाली में हरित शुल्क अदा कर रहे हैं तथा निगम के होटलों में ठहर रहे हैं, को कमरे के किराए में हरित शुल्क के बराबर छूट प्रदान करने पर प्रस्ताव लाने पर विचार कर रहा है, ताकि अतिथियों शुल्क के अतिरिक्त बोझ से बचाया जा सके।

हि.प्र. पर्यटन विकास निगम ने इस खूबसूरत पर्वतीय प्रदेश हिमाचल में आगंतुकों को सुरक्षित एवं आरामदायी आवास एवं परिवहन सुविधा प्रदान करने के लिए अपने आप को एक प्रसिद्ध ब्रांड के रूप में स्थापित किया है।

 

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *