शिक्षण संस्थानों में स्काउट एवं गाईडज गतिविधियों को दिया जाएगा बढ़ावा : मुख्यमंत्री

  • भारत स्काउट एवं गाईडज की ग्रांट-इन-ऐड को बढ़ाकर 50 लाख रुपये करने की घोषणा
  • काॅरप्स फंड सृजित करने के निर्देश
  • रिवालसर स्थित स्काउट एवं गाईडस के राज्य प्रशिक्षण केन्द्र को एक करोड़ रुपये उपलब्ध करने की घोषणा

शिमला : मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने शिक्षा विभाग को प्रदेश के सभी स्कूलों में जहां पर राष्ट्रीय कैडेट काॅरप्स (एनसीसी) और राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) की गतिविधियां संचालित नहीं हो रही हैं, में आने वाले कुछ वर्षों में, प्राथमिकता के आधार पर स्काउट्स एवं गाईडस गतिविधियां आरम्भ करने पर कार्य करने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री शुक्रवार सायं भारत स्काउट्स एवं गाईडस की राज्य परिषद की बैठक की अध्यक्षता करते हुए बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि यह गतिविधियां सभी शिक्षण संस्थानों में अनिवार्य रूप से लागू की जानी चाहिए, क्योंकि इससे बच्चों में अनुशासन, देशभक्ति, समुदाय के लिए कार्य करने व आपसी समन्वय की भावना विकसित होती है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार भारत स्काउट्स एवं गाईडस आन्दोलन को बढ़ावा देने के प्रति वचनबद्ध है और दो-तीन वर्षों में इस आन्दोलन के तहत सभी पाठशालाएं लाई जाएंगी, क्योंकि यह विद्यार्थियों को प्रशिक्षण देने का सबसे बेहतर माध्यम है।

उन्होंने कहा कि स्काउट्स एवं गाईडज आन्दोलन का उद्देश्य युवाओं की शारीरिक, बौद्धिक, सामाजिक व आध्यात्मिक क्षमताओं को विकसित करना है, ताकि वे एक उत्तरदायी नागरिक बन सके। वीरभद्र सिंह ने भारत स्काउट्स एवं गाईडज की राज्य इकाई को प्रदान की जाने वाली ग्रांट-इन-ऐड को 25 लाख से बढ़ाकर 50 लाख रुपये करने की घोषणा की और निर्देश दिए कि काॅर्पस फंड बनाया जाए ताकि धनराशि को विभिन्न गतिविधियों के लिए उपयोग किया जा सके। उन्होंने मण्डी जिला के रिवालसर स्थित स्काउट्स एवं गाईडज के राज्य प्रशिक्षण केन्द्र के कार्य को पूर्ण करने के लिए एक करोड़ रुपये की राशि की वित्तीय सहायता उपलब्ध करवाने की भी घोषणा की। इस केन्द्र में प्रदेश सहित अन्य राज्य के युवाओं को भी प्रशिक्षण सुविधा उपलब्ध होगी। उन्होंने कहा कि आवश्यकतानुसार और धनराशि भी उपलब्ध करवाई जाएगी। उन्होंने शिक्षा विभाग को स्काउट्स एवं गाईडज में अवैतनिक कर्मचारियों की सेवाएं स्काउटिंग उद्देश्य से विभाग में समाहित करने के निर्देश दिए, जिन्होंने आठ वर्ष का सेवाकाल पूरा कर लिया है। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर भारत एवं स्काउट्स गाईडज के प्रदेश चैप्टर की वार्षिक रिपोर्ट को भी जारी किया।

उन्होंने नए कार्यालय पदाधिकारियों तथा राज्य परिषद के बैठक के दौरान चुने गए विशेष सदस्यों को बधाई दी। मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह सर्व सहमति से पुनः अध्यक्ष चुने गए, जबकि मुख्य संसदीय सचिव, शिक्षा नीरज भारती, मुख्य सचिव वी.सी. फारका, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव टी.जी. नेगी और सावित्री भरमौरी को उपाध्यक्ष और उच्च शिक्षा विभाग के निदेशक दिनकर बुराथोकी राज्य भारत स्काउट्स एवं गाईडज की राज्य परिषद के राज्य मुख्य आयुक्त होंगे। इससे पूर्व, राज्य मुख्य आयुक्त दिनकर बुराथोकी ने परिषद की विभिन्न गतिविधियों बारे विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने बताया कि रिवालसर स्थित राज्य प्रशिक्षण केन्द्र का कार्य प्रगति पर है, जिसका निर्माण कार्य इस वर्ष के अंत तक पूरा कर लिया जाएगा।

अतिरिक्त मुख्य सचिव शिक्षा पी.सी. धीमान ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया तथा बताया कि प्रदेश के 1300 सरकारी स्कूलों व 20 महाविद्यालयों में स्काउट्स एवं गाईडज की गतिविधियां संचालित की जा रही हैं। भारत स्काउट्स एवं गाईडज के राज्य सचिव डाॅ. देवेन्द्र कश्यप ने बैठक की कार्यवाही का संचालन किया। शिक्षा विभाग के सचिव राकेश शर्मा, निदेशक प्रारम्भिक शिक्षा राकेश शर्मा तथा प्रदेश सरकार के अन्य वरिष्ठ अधिकारी बैठक में उपस्थित थे।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

15  −  9  =