प्रदेश में मादक द्रव्यों पर अंकुश के लिए कड़े दिशा-निर्देश जारी

राज्य सरकार ने किए ईएसआईसी के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर

  • ईएसआईसी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल शीघ्र होगा क्रियाशील

 शिमला: मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह, स्वास्थ्य मंत्री कौल सिंह ठाकुर और पंचायती राज मंत्री अनिल शर्मा की उपस्थिति में हिमाचल प्रदेश सरकार और राज्य कर्मचारी बीमा निगम (ईएसआईसी) के बीच मंडी जिले के नेर चैक स्थित ईएसआईसी मेडिकल काॅलेज के हस्तांतरण के सम्बन्ध में आज यहां एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए।

हिमाचल प्रदेश सरकार की ओर से प्रधान सचिव (स्वास्थ्य) प्रबोध सक्सेना और ईएसआईसी की ओर से ईएसआईसी के क्षेत्रीय निदेशक अशोक चंद्र तथा ईएसआईसी के वरिष्ठ राज्य चिकित्सा आयुक्त डा. गुंजन गुप्ता ने समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। मुख्य संसदीय सचिव नंदलाल और मुख्य सचिव वी.सी. फारका भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

ईएसआईसी कॉलेज एवं अस्पताल के निर्माण पर कुल 924.82 करोड़ रुपये की लागत आई है, और इसे राज्य को 99 वर्षों के लिए पट्टे पर दिया गया है। राज्य सरकार द्वारा कॉलेज आरम्भ होने के दो वर्षों के उपरांत 285.23 करोड़ रुपये की राशि पांच वार्षिक किश्तों में अदा की जाएगी। कॉलेज में एमबीबीएस की 100 सीटें होंगी।

कॉलेज परिसर में चार खंड, एक पुस्तकालय, पांच मंजिला प्रशासनिक खंड, नर्सिंग कॉलेज लेज व सात संग्रहालय होंगे। अस्पताल में 500 बिस्तरों की सुविधा है और केजुअल्टी वार्ड में 40 बिस्तर, 12 माडयूलर आपरेशन थियेटर, जिनमें औषधी, इंजेक्शन तथा स्टोर से वार्ड तक के लिए नमूनों की स्व-हस्तांतरण सुविधा के साथ-साथ लेजर प्रणाली से युक्त आप्रेशन थियेटर भी होंगे। इसके अतिरिक्त, एक मुख्य आपरेशन थियेटर और दो लघु आपरेशन थियेटर भी आपातकालीन वार्ड के साथ जोड़े गए हैं।

कॉलेज परिसर में संकाय एवं स्टाफ के लिए 371 आवासों की सुविधा, लड़कों के लिये 300 कमरों का छात्रावास व लड़कियों के लिये 200 कमरों के छात्रावासों की सुविधा भी उपलब्ध करवाई गई है। इसके अतिरिक्त, रेजिडेंट चिकित्सक छात्रावास, इंटर्न छात्रावास, नर्सिंग छात्रावास तथा नर्सिंग प्रशिक्षुओं के लिए अलग से आवास बनाए गए हैं। इएसआईसी कॉलेज में रोगियों के लिए एक सराय भवन, एक व्यायामशाला, इंडोर बैडमिंटन स्टेडियम, एक छोटा शापिंग कॉम्पलेक्स तथा एक बड़ी पार्किंग जैसी सुविधाओं का निर्माण किया गया है।

 

 

 

 

 

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *