मुख्यमंत्री का नवनियुक्त अध्यापकों से दूरदराज व दुर्गम क्षेत्रों में सेवाएं देना का आह्वान

मुख्यमंत्री का नवनियुक्त अध्यापकों से दूरदराज व दुर्गम क्षेत्रों में सेवाएं देने का आह्वान

  • समेज तथा गानवी में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र भवनों का लोकार्पण
  • नाऊ.नाग झील के सौंदर्यकरण का प्राकलन करने के निर्देश
  • ज्यूरी में 22 के.वी.के विद्युत उपकेन्द्र का लोकार्पण

शिमला: मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कहा कि यदि अध्यापक दूरदराज व दुर्गम क्षेत्रों में डयूटी ज्वाइन नहीं करते हैं तो उनके खिलाफ सख्त कार्यवाही अमल में लाई जाएगी। इस बारे निर्देश जारी कर दिए गए हैं या तो वे तैनाती वाले स्थान पर अपनी उपस्थिति दर्ज करवाएं अन्यथा नौकरी से त्यागपत्र दें। उन्होंने युवा अध्यापकों से दूरदराज व दुर्गम क्षेत्रों में सेवाएं देने का आग्रह कियाए क्योंकि इन क्षेत्रों के लोगों को उनकी सेवाओं की सर्वाधिक आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि अध्यापकों का समाज में उच्च स्थान है और लोगों द्वारा उन्हें सम्मान की दृष्टि से देखा जाता है।

मुख्यमंत्री आज शिमला जिले के पन्द्रह.बीस क्षेत्र के समेज में एक जनसभा को सम्बोधित कर रहे थे। इससे पूर्व उन्होंने समेज में 83 लाख रुपये की लागत से निर्मित प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र का लोकार्पण किया। उन्होंने कहा कि वे पन्द्रह.बीश क्षेत्र से भलीभांति परिचित हैं और एक समय था जब इस क्षेत्र में सड़क सुविधा नहीं थी तथा प्रत्येक गांव को पैदल जाना पड़ता है। उन्होंने समेज में नए वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला भवन के खोलने व लोकार्पण किया तथा स्कूल की चारदीवारी के भी निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को पन्द्रह.बीश के सरपाड़ा स्थित नाऊ.नाग झील के सौंदर्यकरण पर होने वाले खर्च का आकलन तैयार करने के निर्देश दिए। उन्होंने आश्वासन दिया कि सरकार इसके लिए पर्याप्त मात्रा में धनराशि उपलब्ध करवाएगी। उन्होंने समेज को फांचा तथा गानवी से जोड़ने के वैकल्प मार्ग की संभावनाएं तशालने के भी निर्देश दिए। उन्होंने समेज से फांचा के लिए वाया सरपाला वन सड़क को चैड़ा करने के भी निर्देश दिए।

इसके उपरांत वीरभद्र सिंह ने ज्यूरी में एक जनसभा को सम्बोधित किया तथा हिन्दुस्तान तिब्बत मार्ग के निर्माण में अपना जीवन न्यौछावर करने वालों शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने कहा कि ज्यूरी में उप तहसील खोलने की मांग सही नहीं है। उन्होंने कहा कि यहां से रामपुर बहुत ही नजदीक है। उन्होंने कहा कि वे प्रशासनिक इकाइयों के विखंडन के हक में नहीं है। उन्होंने कहा कि उनके शासनकाल के दौरान किसी भी छोटी प्रशासनिक इकाई को मंजूरी नहीं दी गईए केवल उन्हीं क्षेत्रों में छोटी इकाइयों व कार्यालय खोले गएए जहां इनकी अति आवश्यकता थी। उन्होंने कहा कि कुछ लोग हैंए जो अफवाहें फैलाते हैं और नए कार्यालयों व उप तहसीलों की मांग करते हैंए ताकि लोगों के बीच अपना प्रचार व नाम बना सकें।

उन्होंने प्रदेश के समृद्ध संस्कृति व रीति.रिवाजों के संरक्षण की आवश्यकता को दोहराते हुए कहा कि युवा पीढ़ी को अपनी भाषा बोलने में शर्म महसूस नहीं करनी चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान में जवाहर लाल इंजीनियरिंग कॉलेज की कक्षाएं सुन्दरनगर में लगाई जा रही हैं और निकट भविष्य में शीघ्र ही कोटला में भव्य भवन का निर्माण किया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कुल्लू जिले की उच्च पाठशाला कुशवाह को स्तरोन्नत कर वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला बनाने की घेाषणा की। उन्होंने खनेरी में नर्सिंग छात्रावास के लिए 50 अतिरिक्त कमरों के निर्माण के भी निर्देश दिएए जहां पर 100 से अधिक लड़कियों को आवासीय सुविधा उपलब्ध होगी। इससे पूर्वए मुख्यमंत्री ने कृषि एवं ऊर्जा मंत्री सुजान सिंह पठानिया के साथ 1.66 करोड़ रुपये की लागत से ज्यूरी में निर्मित 22 केण्वीण् के विद्युत उप केन्द्र का शुभारम्भ किया। इससे पन्द्रह.बीश क्षेत्र की छह से अधिक पंचायतों तथा अन्य दुर्गम क्षेत्रों की 17 हजार से अधिक जनसंख्या लाभान्वित होगी।

मुख्यमंत्री ने गानवी में 83.17 लाख रुपये की लागत से निर्मित प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के भवन का भी लोकार्पण किया। उन्होंने खनेरी में 1.77 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाले 22 केण्वीण् विद्युत उप केन्द्र की भी आधारशिला रखी। इसके बनने से क्षेत्र की पॉंच पंचायतों के 20 गांव की 75 हजार जनसंख्या लाभान्वित होंगी। उन्होंने 2.18 करोड़ रुपये की लागत से ग्राम पंचायत बढ़ालए ज्यूरी व शाहधार ग्राम पंचायतों के लिए ज्यूरी में ग्रेविटी जल आपूर्ति योजना की आधारशिला रखी। इस पर 2.18 करोड़ रुपये खर्च होंगे और क्षेत्र की छह बस्तियों धराली, नैनी, कोटला, नया कोटला, त्याल तथा बटारा की 7400 से अधिक जनसंख्या लाभान्वित होंगी। उन्होंने 78.22 लाख रुपये की लागत से निर्मित होने वाले प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र फांचा की भी आधारशिला रखी।

 

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *