जनवरी, 2018 के दौरान विदेशी पर्यटकों के आगमन में 8.4 प्रतिशत व ई-पर्यटक वीजा पर 58.5 प्रतिशत की वृद्धि

मई, 2016 में पर्यटन से हुई10,285 करोड़ रुपये की विदेशी मुद्रा की आय

  • मई, 2016 के दौरान विदेशी पर्यटकों के आगमन में वर्ष 2015 की इसी अवधि के मुकाबले 3.7 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज हुई
  • मई, 2016 के दौरान पर्यटक आगमन में सर्वाधि‍क हिस्‍सा बांग्लादेश का रहा और उसके बाद क्रमशः अमेरिका और ब्रिटेन का हिस्सा रहा

नई दिल्ली: मई, 2016 में दौरान विदेशी पर्यटकों के आगमन (एफटीए) में वर्ष 2015 की इसी अवधि के मुकाबले 3.7 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज हुई। मई, 2016 के दौरान पर्यटक आगमन में सर्वाधि‍क हिस्सा बांग्लादेश का रहा और उसके बाद क्रमशः अमेरिका और ब्रिटेन का हिस्सा रहा। मई, 2016 के दौरान पर्यटन से 10,285 करोड़ रुपये की विदेशी मुद्रा की आय हुई।

पर्यटन मंत्रालय आप्रवासन ब्यूरो (बीओआई) से प्राप्त राष्ट्रीयता-वार एवं बंदरगाह-वार आंकड़ों के आधार पर विदेशी पर्यटकों के आगमन (एफटीए) के मासिक अनुमानों का संकलन करता है। इसी तरह पर्यटन मंत्रालय भारतीय रिजर्व बैंक से प्राप्त आंकड़ों के आधार पर पर्यटन से प्राप्त विदेशी मुद्रा आमदनी (एफईई) का संकलन करता है। मई, 2016 के दौरान एफटीए और पर्यटन के जरिए एफईई से जुड़ी खास बातें निम्नलिखित रहीं :

विदेशी पर्यटकों का आगमन (एफटीए) :

  • मई, 2016 के दौरान एफटीए का आंकड़ा 5.29 लाख का रहा, जो मई, 2015 में 5.1 लाख और मई, 2014 में 4.65 लाख रहा था। मई, 2015 की तुलना में मई, 2016 के दौरान इसमें 3.7 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई।
  • जनवरी-मई, 2016 के दौरान एफटीए का आंकड़ा 36.36 लाख का रहा, जो जनवरी-मई 2014 के मुकाबले जनवरी-मई 2015 में 33.32 लाख एफटीए आंकड़े से हुई 4.0 प्रतिशत की वृद्धि की तुलना में 9.1 प्रतिशत की वृद्धि दर्शाता है।
  • शीर्ष 15 स्रोत देशों में मई, 2016 के दौरान भारत में एफटीए में सर्वाधिक हिस्सा बांग्लादेश (20.48 प्रतिशत) का रहा। उसके बाद संयुक्त राज्य अमेरिका (15.68 प्रतिशत), ब्रिटेन (7.56 प्रतिशत),मलेशिया(3.74 प्रतिशत), श्रीलंका (3.39 प्रतिशत), चीन (3.24 प्रतिशत), जापान (2.69 प्रतिशत), कनाडा (2.62 प्रतिशत), जर्मनी (2.48 प्रतिशत) ऑस्ट्रेलिया (2.42 प्रतिशत), सिंगापुर(2.23 प्रतिशत), फ्रांस (2.14 प्रतिशत), नेपाल (2.06 प्रतिशत) , पाकिस्तान (1.73 प्रतिशत) और ओमान (1.66 प्रतिशत) का रहा।
  • शीर्ष 15 एयरपोर्ट्स में अप्रैल, 2016 के दौरान भारत में एफटीए में सर्वाधिक प्रतिशत हिस्सा दिल्ली एयरपोर्ट (26.37 प्रतिशत) का रहा। उसके बाद मुंबई एयरपोर्ट (17.30 प्रतिशत), हरिदासपुर भूमि चेक पोस्ट (11.78 प्रतिशत), चेन्नई हवाई अड्डा (9.03 प्रतिशत), बेंगलुरू एयरपोर्ट (7.54 प्रतिशत), कोलकाता एयरपोर्ट (4.66 प्रतिशत), कोचीन एयरपोर्ट (3.89 प्रतिशत), हैदराबाद एयरपोर्ट (3.71 प्रतिशत), गेदे रेल (2.73 प्रतिशत), त्रिवेन्द्रम एयरपोर्ट (1.76 प्रतिशत), अहमदाबाद एयरपोर्ट (1.68 प्रतिशत), तिरुचिरापल्ली हवाई अड्डा (1.67 प्रतिशत), अटारी-वाघा (1.38 प्रतिशत)गोवा एयरपोर्ट (0.82 प्रतिशत), और गोजाडांगा भूमि चेक पोस्ट (0.65 प्रतिशत) का हिस्सा रहा।

रुपए व अमेरिकी डॉलर के लिहाज से भारत में पर्यटन से विदेशी मुद्रा आमदनी (एफईई)

  • मई, 2016 के दौरान एफईई 10,285 करोड़ रुपये की रही, जबकि मई, 2015 में 9,505 करोड़ रुपये और मई, 2014 में 7,936 करोड़ रुपये थी।
  • मई, 2016 के दौरान रुपये के लिहाज से एफईई में बढ़ोतरी दर मई, 2015 की तुलना में 8.2 प्रतिशत की रही। मई, 2014 की तुलना में मई, 2015 में यह 19.8 प्रतिशत दर्ज हुई थी।
  • जनवरी-मई, 2016 के दौरान रुपये के लिहाज से पर्यटन से प्राप्त एफईई 62,333 करोड़ रुपये की रही, जो जनवरी-मई, 2014 की तुलना में जनवरी-मई, 2015 के दौरान हुई 14.4 प्रतिशत की बढ़ोतरी से हुई 54,471 करोड़ रूपये की एफईई की तुलना में 7.3 प्रतिशत बढ़ोतरी दर्शाती है।
  • मई, 2016 के दौरान डॉलर के लिहाज से एफईई 1.537 बिलियन अमेरिकी डॉलर जो मई 2015 में यह राशि 1.491 बिलियन अमेरिकी डॉलर और मई, 2014 में 1.337 बिलियन अमेरिकी डॉलर रही थी।
  • मई, 2015 की तुलना में मई, 2016 में अमेरिकी डॉलर के रूप में एफईई में बढ़ोतरी दर 3.1 प्रतिशत रही जबकि मई, 2014 की तुलना में मई, 2015 में यह बढ़ोतरी 11.5 प्रतिशत रही थी।
  • जनवरी-मई, 2016 के दौरान अमेरिकी डॉलर के लिहाज से पर्यटन से प्राप्‍त एफईई 9.270 बिलियन अमेरिकी डॉलर रही, जो जनवरी-मई, 2014 की तुलना में जनवरी-मई, 2015 के दौरान 4.9 वृद्धि के साथ हुई 8.705 बिलियन अमेरिकी डॉलर एफईई की तुलना में 6.5 प्रतिशत बढ़ोतरी दर्शाती है।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *