केंद्रीय कर्मचारियों का हिंदी के प्रति रुझान बढ़ाने के लिए राज्यभाषा सम्मेलन का आयोजन

केंद्रीय कर्मचारियों का हिंदी के प्रति रुझान बढ़ाने के लिए राज्यभाषा सम्मेलन का आयोजन

शिमला: भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण, मण्डल कार्यालय शिमला, में अधीक्षण पुरातत्वविद् पी. एल. मीना, अघ्यक्षता में हिन्दी कार्यशाला सह-सम्मेलन का आयोजन किया गया, जिसमें शिमला स्थित विभिन्न कार्यालयों के अधिकारियों ने भाग लिया। इस अवसर पर पूर्व निदेशक, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के डा. के. सी. नौरियाल ने सम्बोधित करते हुए कहा कि हिन्दी भाषा राष्ट्र की आत्मा है। पी. एल. मीना अधीक्षण पुरातत्वविद, ने कहा कि कार्यालय का अधिकांश कार्य हिन्दी में होता है, भविष्य में उसमें और प्रगति की जाएगी। कंवर सिंह यादव, सहायक पुरातत्वविद ने हिन्दी को देश की प्रगति के लिए आवश्यक बताया।संस्कृति मंत्रालय के निदेशक राजभाषा, वी. पी. गौड़ ने कहा कि हिन्दी हमारी संस्कृति की वाहनी है तथा साहित्य एवं समाज का सृजन करती है। राष्ट्रभाषा के नाते हिन्दी का उपयोग करना हमारा नैतिक कर्तव्य है वहीं राजभाषा के नाते हमारा कानूनी दायित्व है। इस अवसर पर सहभागियों की हिन्दी में कार्य करने पर आने वाली कठिनाइयों का निराकरण भी किया गया। सम्मेलन का आयोजन डा0 सीमा ने किया। यह संगोष्ठी हिन्दी के विकास के लिए मील का पत्थर साबित होगी।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

  +  53  =  54