न कभी क्रिकेट खेल में सट्टा लगाने की बात कही, न ही कभी क्रिकेट खेल की आलोचना की : मुख्यमंत्री

न कभी क्रिकेट खेल में सट्टा लगाने की बात कही, न ही कभी की क्रिकेट खेल की आलोचना : मुख्यमंत्री

  • वोल्वो बसों को मण्डी में पर्याप्त पार्किंग सुविधा करवाई जाएगी उपलब्ध: मुख्यमंत्री

शिमला: मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कहा कि उन्होंने कभी क्रिकेट खेल में सट्टा लगाने की बात नहीं कही है और न ही कभी क्रिकेट खेल की आलोचना की। मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्व में क्रिकेट खेल सट्टों के कारण बदनाम हुआ है, परन्तु उनका मत है कि किसी की सट्टेबाजी में संलिप्त नहीं होना चाहिए। मुख्यमंत्री आज मण्डी में पत्रकारों से अनौपचारिक बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि उनके ब्यान को तोड़-मरोड़ कर प्रस्तुत किया गया है।

राज्य सरकार द्वारा राष्ट्रीय स्तर की क्रिकेट अकादमी को भूमि उपलब्ध करवाने के प्रश्न पर मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार को प्रस्ताव आने पर ही इस पर विचार किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने लग्ज़री वोल्वो बसों के मण्डी में रुकने के प्रावधान पर पूछे गए एक सवाल पर कहा कि जब यह बस अड्डा बना तो उस वक्त लग्ज़री वाल्वो बसें भी कम थीं और बस अड्डे पर इन बसों के प्रवेश अथवा रुकने का प्रावधान नहीं किया गया था। उन्होंने कहा कि हि.प्र. पथ परिवहन निगम के बेडे़ में अनेक वाल्वो बसें शामिल की गई हैं तथा इन बसों की पार्किंग के लिये अतिरिक्त सुविधाएं उपलब्ध करवाई जाएंगी। उन्होंने कहा कि वाल्वो बसों को मण्डी से प्रदेश के विभिन्न भागों तथा प्रदेश के बाहर चलाने पर विचार किया जाएगा। उन्होंने कहा कि वाल्वो बसों की सीधे मनाली से आवाजाही हो रही है और बीच के स्टेशनों पर इनमें सीटों के आरक्षण की सुविधा मुमकिन नहीं है।

मुख्यमंत्री ने आज मण्डी में 6.66 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित अन्तरराज्यीय बस टर्मिनल का उद्घाटन किया। इसमें 14 दुकानें तथा 5 बस-वे टर्मिनलस की सुविधा है। उन्होंने युवा कांग्रेस द्वारा आयोजित रैली में भी भाग लिया। उन्होंने कहा कि इन दुकानों के खुल जान से यात्रियों की जरूरतें पूरी होंगी तथा इन्हें शीघ्र ही आवंटित कर दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री द्वारा शुभारम्भ किए गए हिमुडा द्वारा निर्मित बस स्टैंड के द्वितीय चरण में रेस्तरां और हिमाचल पथ परिवहन निगम कार्यालय के अतिरिक्त सवारियों के लिए शौचालय की सुविधा भी उपलब्ध है। हिमुडा के एक प्रवक्ता ने कहा कि प्रथम चरण में 26 दुकानें पहले ही तैयार कर दी गई है और इसके अतिरिक्त 13 बस-वे बनाए गए हैं, जिसपर 11.34 करोड़ रुपये खर्च हुए है।

 

 

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *