मुख्यमंत्री कल करेंगे शिमला के खनेरी में सब-स्टेशन का शिलान्यास, सब-स्टेशन ज्यूरी का लोकार्पण : अनुराग पराशर

वीरभद्र सिंह ने किया सोलन के अर्की में 33 के.वी. विद्युत उपकेन्द्र अर्की का लोकार्पण

शिमला: मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने आज जिला सोलन के अर्की में 33 के.वी. विद्युत उपकेन्द्र अर्की का लोकार्पण किया गया। इस अवसर पर ऊर्जा एवं कृषि मंत्री सुजान सिंह पठानिया, स्टेट इलैक्ट्रीसिटी बोर्ड लिमिटेड के प्रबन्ध निदेशक ईं. पी. सी. नेगी और निदेशक (परिचालन) ईं. आर. के. शर्मा सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे।  

बिजली बोर्ड के उप निदेशक (लोक सम्पर्क) अनुराग पराशर

बिजली बोर्ड के उप निदेशक (लोक सम्पर्क) अनुराग पराशर

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि 2.48 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित 33 के.वी. विद्युत उप केन्द्र का लोकार्पण किया, जो क्षेत्र के 125 गांवों की 20 हजार की आबादी को लाभान्वित करने के साथ-साथ ट्रांसमिशन एवं वितरण प्रणाली को भी सुदृढ़ करेगा। उन्होंने कहा कि इस विद्युत उपकेन्द्र से क्षेत्र में आ रही नई उठाऊ पेयजल योजनाओं के लिए पर्याप्त विद्युत आपूर्ति भी उपलब्ध होगी। उन्होंने कहा कि इस विद्युत उपकेन्द्र से क्षेत्र की विद्युत आपूर्ति सशक्त हो जाएगी और कम वोल्टेज की समस्या भी खत्म हो जाएगी। इसके साथ ही संचार एवं वितरण में होने वाली हानियों में भी कमी आएगी।

विद्युत उपकेन्द्र के बारे विस्तृत जानकारी देते हुए स्टेटबिजली बोर्ड लिमिटेड के उप निदेशक (लोक सम्पर्क) अनुराग पराशर ने बताया कि अर्की और आस-पास क्षेत्रों के उपभोक्ताओं को पहले विद्युत आपूर्ति 33 के.वी. विद्युत उपकेन्द्र कुनिहार से 11 के.वी. फीडर द्वारा की जा रही थी, जिसके अधिक लम्बे होने के कारण विद्युत आपूर्ति में कई बार व्यवधान आ जाता था तथा वोल्टेज भी कम हो जाती थी। अतः जिला सोलन के अर्की और आस-पास क्षेत्रों के उपभोक्ताओं को विश्वसनीय और गुणवतापूर्ण विद्युत आपूर्ति प्रदान करने के लिए हिमाचल प्रदेश स्टेट इलैक्ट्रीसिटी बोर्ड लिमिटेड द्वारा 33 के.वी. विद्युत उप-केन्द्र अर्की के निर्माण का निर्णय लिया गया था। साढ़े 10 किलोमीटर लम्बी 33 के.वी. लाईन का निर्माण कर इस विद्युत उपकेन्द्र को 33 के.वी. विद्युत उपकेन्द्र कुनिहार से जोड़ा गया है। उपकेन्द्र के निर्माण पर लाईन सहित लगभग 2 करोड़ 48 लाख रूपये की लागत आई है। इस उप-केन्द्र से 11 के.वी. के 6 फीडर गलोग, शालाघाट, अर्की स्थानीय, शिवघाटी, बातल और एन.सी.पी.सी. निकाले गए हैं।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *