मुख्यमंत्री के विकास कार्यों की निगरानी के लिए अधिकारियों को निर्देश

मुख्यमंत्री के विकास कार्यों की निगरानी के लिए अधिकारियों को निर्देश

  • सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र किलाड़ नागरिक अस्पताल में स्तरोन्नत
  • किलाड़ में सहकारी बैंक शाखा खोलने की घोषणा
  • भरमौर और पांगी के लिये 1000 सोलर स्ट्रीट लाईटें
सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र किलाड़ नागरिक अस्पताल में स्तरोन्नत

सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र किलाड़ नागरिक अस्पताल में स्तरोन्नत

शिमला: मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कहा कि सरकार ऐसे अधिकारियों के कार्यों का आंकलन करेगी, जो अपने अधिकार क्षेत्र में चल रहे विकास परियोजनाओं की समुचित निगरानी करने एवं कार्यों को निर्धारित समय के भीतर पूरा करने में असफल रहेंगे। वीरभद्र सिंह चम्बा जिले के किलाड़ (पांगी घाटी) के प्रवास के दौरान एक विशाल जनसभा को सम्बोधित कर रहे थे।

इस मौके पर राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अध्यक्ष कुलदीप सिंह पठानिया, हि.प्र. राज्य सहकारी बैंक के अध्यक्ष हर्ष महाजनराज्य आपदा प्रबन्धन प्राधिकरण के उपाध्यक्ष राजेन्द्र राणा, अतिरिक्त मुख्य सचिव एवं जनजातीय विकास आयुक्त वी.सी. फारका, खण्ड कांग्रेस समिति के अध्यक्ष देवेन्द्र शर्मा, बीडीसी अध्यक्ष अमर देई, जनजातीय सलाहकार समिति के सदस्य और वूल-फेडरेशन के पूर्व अध्यक्ष राम चरण राणा, जनजातीय सलाहकार समिति के सदस्य कृष्ण चोपड़ा, राज्य वन निगम के निदेशक मण्डल के सदस्य सुभाष चौहान, बीसीसी के सलाहकार जी.सी. चौहान व अन्य गणमान्य व्यक्ति भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री ने किलाड़ स्थित अस्पताल के भवन के निर्माण में हुई देरी पर नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि भवन निर्माण का जो कार्य छः महीने के भीतर पूरा होना चाहिए था, अभी भी पिछले दो वर्षों से धीमी गति से चल रहा है। उन्होंने निर्माण कार्यों में तेजी लाने के निर्देश दिए तथा 15 अक्तूबर तक कार्य पूर्ण करने की अवधि निर्धारित की। उन्होंने निर्माण कार्य में देरी कर रहे ठेकेदारों को ब्लैक लिस्ट करने को कहा। उन्होंने कहा कि ऐसे ठेकेदारों को बख्शा नहीं जाएगा जो राज्य में विकास एवं निर्माण कार्यों में देरी का कारण बन रहे हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे ठेकेदार प्रदेश की जनता को विकास का लाभ पहुंचाने में देरी के लिए जिम्मेवार है। उन्होंने सभी सम्बन्धित विभागों को ऐसे ठेकेदारो को, जो अपने कार्यों के प्रति गंभीर नहीं हैं, को भविष्य में सरकारी ठेके न देने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इससे सार्वजनिक धन की क्षति होती है।

मुख्यमंत्री ने निर्माणाधीन भवन के दो खण्डों को सब-वे से जोड़ने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि जनजातीय क्षेत्रों में विकास सुनिश्चित करने के लिए जिम्मेवार व सक्षम अधिकारी भेजे जाएंगे। उन्होंने अधिकारियों को जनजातीय क्षेत्रों में लोगों की निःस्वार्थ भाव से सेवा करने का आह्वान किया। वीरभद्र सिंह ने कहा कि पांगी घाटी में विकास गतिविधियों के लिये 24 करोड़ रुपये का बजट प्रावधान किया गया है। इसके अतिरिक्त, जनजातीय उप योजना के अन्तर्गत वर्ष 2016-17 में 30 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है तथा सड़कों व पुलों के निर्माण के लिए 10.31 करोड़ रुपये का बजट रखा गया है।

उन्होंने कहा कि पांगी घाटी में अधिकांश विकास कार्य कांग्रेस सरकार के शासनकाल के दौरान हुए हैं। उन्होंने कहा कि वर्ष 1979 में क्षेत्र में जहां केवल सात से दस किलोमीटर मोटर योग्य सड़कें थीं, आज इनकी लम्बाई 220 किलोमीटर हो गई हैं। उन्होंने कहा कि राजकीय डिग्री महाविद्यालय तथा औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान किलाड़ का कार्य प्रगति पर है। उन्होंने कहा कि जहां पहले घाटी में मात्र एक-आध ही स्कूल था, आज यहां आठ उच्च पाठशालाएं और सात वरिष्ठ माध्यमिक पाठशालाएं बच्चों को उनके घरद्वार के समीप शिक्षा प्रदान कर रही हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें यह जानकर प्रसन्नता हुई कि डिग्री कॉलेज किलाड़ में लड़कों की अपेक्षा लड़कियों की अधिक संख्या है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार राज्य के विद्यार्थियों को उच्च शिक्षा सुनिश्चित कर रही है और गत तीन वर्षों के कार्यकाल के दौरान नए 24 कॉलेज खोले गए हैं और अब प्रदेश में सरकारी महाविद्यालयों की संख्या 94 हो गई है।

उन्होंने कहा कि पांगी घाटी में सभी क्षेत्रों का तेजी से विकास हुआ है। उन्होंने अतीत को याद करते हुए कहा कि चिनाब घाटी मण्डल को घाटी में सड़कों के निर्माण की जिम्मेदारी सौंपी गई थी, परन्तु कोई भी क्षेत्र सड़क सुविधा से जुड़ नहीं पाया, इसी के चलते सरकार ने वर्ष 1988 में किलाड़ में सिंगल लाईन प्रशासन व्यवस्था शुरू की। इसके उपरांत, क्षेत्र में विकास के नए युग का अध्याय प्रारम्भ हुआ। उन्होंने कहा कि क्षेत्र में न केवल सड़कों का निर्माण हुआ, बल्कि घाटी में अनेक सूक्ष्म तथा लघु पनबिजली परियोजनाएं भी स्थापित हुईं।

मुख्यमंत्री ने सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र किलाड़ को 50 बिस्तरों वाले नागरिक अस्पताल में स्तरोन्नत करने की घोषणा की। उन्होंने किलाड़ में सहकारी बैंक की शाखा खोलने की भी घोषणा की तथा कहा कि यहां बिना लाभ-हानि के आधार पर लकड़ी का डिपो खोला जाएगा। उन्होंने स्कूलों को खोलने तथा स्तरोन्नत करने पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करने का आश्वासन दिया तथा कहा कि यदि आवश्यक हुआ तो दूरदराज की बस्तियों में प्राथमिक स्कूल खोले जाएंगे।

वन मंत्री ठाकुर सिंह भरमौरी ने किलाड़ में मुख्यमंत्री तथा अन्य गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के नेतृत्व की कांग्रेस सरकारों के कार्यकाल में जनजातीय क्षेत्रों का अपार विकास सुनिश्चित हुआ है, जिनमें पांगी व अन्य क्षेत्र भी शामिल हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के तीन वर्ष के शासनकाल के दौरान हजारों नौकरियां सृजित की गई। मुख्यमंत्री के प्रयासों से पठानकोट से किलाड़ वाया तीसा सड़क को राष्ट्रीय उच्च मार्ग घोषित किया गया है। उन्होंने कहा कि सरकार इस वित्त वर्ष के दौरान भरमौर तथा पांगी क्षेत्र में एक-एक किलोवाट के 100 सौर ऊर्जा संयंत्र लगाए जाएंगे।

वन मंत्री ने कहा कि वर्तमान वित्त वर्ष के दौरान पांगी तथा भरमौर क्षेत्र में 1000 सौर स्ट्रीट लाईटें स्थापित की जाएंगी। उन्होंने कहा कि हुडान पंचायत में 40 किलोवाट का सौर ऊर्जा संयंत्र लगाना प्रस्तावित है। मंत्री ने कहा कि शीघ्र ही सेचू में 100 किलोवाट की लघु विद्युत परियोजना आरम्भ हो जाएगी। उन्होंने कहा कि वन विभाग से स्वीकृति मिलते ही चासक-भटोरी सड़क का निर्माण किया जाएगा इसके बन जाने से चासक-भटोरी क्षेत्र किलाड़ से जुड़ जाएगा। उन्होंने कहा कि भवनों के निर्माण के लिए इमारती लकड़ी उपदान दरों पर उपलब्ध करवाई जा रही है। उन्होंने मुख्यमंत्री का किलाड़ सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र को नागरिक अस्पताल में स्तरोन्नत करने के लिए आभार व्यक्त किया तथा कहा कि चिकित्सक के पदों को शीघ्र ही भरा जाएगा।

वन मंत्री ने इस अवसर पर क्षेत्र की विभिन्न मांगों रखीं, जिनमें महलू नाला पर किलाड़ चरण-दो परियोजना का निर्माण, किलाड़ में लकड़ी डिपो खोलना, तथा सेचू, पूर्थी, साच व किलाड़ में सहकारी बैंक तथा पंजाब नेशनल बैंक की शाखाएं खोलना भी शामिल है। उन्होंने घाटी के आधा दर्जन स्कूलों को स्तरोन्नत करने की भी मांग की।

ग्राम पंचायत किलाड़ के प्रधान सतीश शर्मा ने भी मुख्यमंत्री तथा अन्यों का स्वागत किया। उन्होंने क्षेत्र की विभिन्न मांगों से भी मुख्यमंत्री को अवगत करवाया।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *