ताज़ा समाचार

बुलंद हौंसले और बहादुरी की अनूठी मिसाल “नीरजा भनोट”

बुलंद हौंसले और बहादुरी की अनूठी मिसाल “नीरजा भनोट”

  • नीरजा सबसे युवा और प्रथम महिला थीं, जिन्हें  (मृत्यु उपरांत) मिला अशोक चक्र
    नीरजा सबसे युवा और प्रथम महिला थीं, जिन्हें  (मृत्यु उपरांत) मिला अशोक चक्र

  • नीरजा सबसे युवा और प्रथम महिला थीं, जिन्हें (मृत्यु उपरांत) मिला अशोक चक्र
 “नीरजा भनोट”

“नीरजा भनोट”

नीरजा भनोट किसी परिचय की मोहताज नहीं है जिन्होंने सिर्फ 23 साल की उम्र में अपनी बहादुरी दिखाकर 359 जिंदगियां बचाई थी। हालांकि आतंकवादियों ने भनोट की इस दौरान गोली मारकर हत्या कर दी थी और वह शहीद हो गई थी। अपनी बहादुरी से 359 लोगों की जान बचाने वाली एयर होस्‍टेस नीरजा भनोट को भला कौन भूल सकता है। वर्ष 1986 में एक प्‍लेन के कराची एयरपोर्ट से हाईजैक हो जाने के बाद नीरजा ने आतंकवादियों से लड़ते हुए 359 लोगों की जान बचाई थी लेकिन इस जंग में वे अपनी जान गवां बैठी थी। नीरजा भनोट उस समय 23 साल की होने वाली थी। उसकी सालगिरह से दो दिन पहले 5 सितंबर को उसकी छोटी सी बेमिसाल जिंदगी खत्म हो गई। वो मुंबई से न्यूयॉर्क जाने वाले विमान की मुख्य सहायिका थी। कराची के एयरपोर्ट पर विमान को हाईजैक कर लिया गया। अब उसी नीरजा भनोट पर एक फिल्म बनकर तैयार है। इसी घटना को लेकर बनाई गई फिल्‍म ‘नीरजा’ का ट्रेलर रिलीज हो गया है। बॉलीवुड अभिनेत्री सोनम कपूर पर्दे पर नीरजा भनोट का किरदार जीने को तैयार हैं, और इसी वजह से नीरजा भनोट एक बार फिर सुर्खियों में आ गई हैं। फिल्‍म का ट्रेलर आपको भावुक कर सकता है। वहीं सोनम ने अपने एक बयान में कहा था कि नीरजा के रोल को प्‍ले करने के दौरान वे बेहद नर्वस थी। फिल्‍म को फॉक्स स्टार इंडिया प्रोड्यूस कर रही है वहीं फिल्‍म को राम माधवानी ने डायरेक्‍ट किया है।

मुंबई के पत्रकार हरीश भनोट और रमा भनोट की बेटी नीरजा का जन्म 7 सितंबर 1963 को चंडीगढ़ में हुआ था। नीरजा ने बॉम्बे स्कॉटिश स्कूल से स्कूलिंग करके सेंट जेवियर्स कॉलेज से ग्रेजुएशन किया था। उनके माता-पिता उनको प्यार से ‘लाडो’ बुलाते थे। 21 साल में नीरजा की शादी हो गई थी और वह पति के साथ वेस्टर्न एशिया चली गई थीं। लेकिन दहेज की मांग के चलते वह मुंबई वापस आ गईं। यहां आकर वह पैन अमेरिकन एयरवेज में नौकरी करने लगीं। कहते हैं जब ट्रेनिंग के दौरान नीरजा को एंटी-हाईजैकिंग कोर्स में दाखिला लेना पड़ा तो उनकी मां ने उनसे नौकरी छोड़ने को कहा, तो नीरजा का जवाब था- अगर सब मांएं ऐसे ही सोचेंगी तो इस देश का भविष्य क्या होगा? एयर-होस्टेस बनने से पहले उन्होंने बेंजर सारीज, बिनाका टूथपेस्ट, गोदरेज बेस्ट डिटरजेंट, वैपरेक्स और विको टरमरिक क्रीम जैसे उत्पादों के लिए मॉडलिंग की थी। नीरजा सबसे युवा और प्रथम महिला थीं, जिन्हें अशोक चक्र मिला (मृत्यु उपरांत)। अशोक चक्र भारत का शांति के समय का सबसे ऊंचा वीरता का पदक है।

अशोक चक्र के साथ-साथ नीरजा को फ्लाइट सेफ्टी फाउंडेशन हिरोइजम अवॉर्ड, यूएसए, तमगा-ए-इंसानियत-पाकिस्तान, जस्टिस फॉर क्राइम्स अवॉर्ड, यूनाइटेड स्टेट्स अटॉर्नीज ऑफिस फॉर द डिस्ट्रिक्ट ऑफ कोलंबिया, स्पेशल करेज अवॉर्ड, यूएस गवर्नमेंट और इंडियन सिविल एवियेशन मिनिस्ट्रीज अवॉर्ड जैसे सम्मानों से भी नवाजा गया।

    नीरजा भनोट की बायोपिक 19 फरवरी को रिलीज

  • नीरजा भनोट की बायोपिक 19 फरवरी को रिलीज

नीरजा भनोट की बायोपिक 19 फरवरी को रिलीज हो रही है, जिसमें सोनम कपूर ने उनके किरदार को निभाया है। नीरजा Pan Am 73 में सीनियर फ्लाइट पर्सर थीं। 5 सितंबर 1986 को उन्होंने हमेशा की तरह फ्लाइट का अनाउंसमेंट किया था। किसे पता था कि यह उनका आखिरी फ्लाइट अनाउंसमेंट बन जाएगा।

1986 में 5 सितंबर को इस फ्लाइट को चार आतंकवादियों ने हाईजैक कर लिया था। नीरजा सभी मुसाफिरों की जान बचाते-बचाते शहीद हो गई थी।

गौर हो कि 7 सितंबर 1963 को चंडीगढ़, पंजाब में जन्मी नीरजा को मृत्युपरान्त कई वीरता अवॉर्ड दिए गए। इनमें भारत की ओर से उन्हें अशोक चक्र अवॉर्ड दिया गया। इतनी कम उम्र में पहले कभी किसी को यह पुरस्कार नहीं मिला। नीरजा को पाकिस्तान की तरफ से भी तमगा-ए-इंसानियत दिया गया था।

नीरजा भनोट से जुड़ी कुछ अहम बातें

  • नीरजा का जन्‍म 7 सितम्बर 1964 को चंडीगढ़ में हुआ था।
  • उनके पिता का नाम हरीश भनोट और माँ का नाम रमा भनोट था।
  • नीरजा को बचपन से ही प्‍लेन में बैठने और आकाश में उड़ने की इच्‍छा थी।
  • एयरहोस्‍टेस बनने से पहले नीरजा ने बिनाका टूथपेस्ट, विको टरमरिक क्रीम, वैपरेक्स और गोदरेज बेस्ट डिटरजेंट के विज्ञापन में भी नजर आ चुकीं थीं।
      नीरजा ने बतौर एयरहोस्‍टेस पैन एम एयर लाइन्‍स ज्‍वाइन की।
  • वर्ष 1985 में नीरजा की शादी हो गई थी लेकिन दहेज के दबाव के कारण उनके रिश्‍तों में खटास आ गई और वे शादी के दो महीने बाद ही मुबंई लौट आई थी।
  • 1986 में नीरजा की इच्‍छा पूरी हुई और उन्‍होंने एयर लाइन्स पैन एम ज्वाइन की।
  • नीरजा ने बतौर एयरहोस्‍टेस पैन एम एयर लाइन्‍स ज्‍वाइन की।
  • 5 सितंबर 1986 का दिन उनके लिए इस दुनियां का आखिरी दिन था।
  • इसी दिन को उनके बलिदान के लिए जाना जाता है। उन्‍होंने अपनी जान की परवाह किये बिना आतंकवादियों को मुंहतोड़ जवाब दिया। उनकी यह बहादुरी इतिहास के पन्‍नों में दर्ज हो गई।
  • नीरजा के बलिदान के लिए भारत सरकार ने उन्‍हें सर्वोच्च नागरिक सम्मान अशोक चक्र प्रदान किया वहीं पाकिस्तान की सरकार ने भी नीरजा को तमगा-ए-इन्सानियत प्रदान किया।

 

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

14  −    =  7