विकास कार्यों को गति देने में बेहतर समन्वय से कार्य करें विभाग : मुख्यमंत्री

विकास कार्यों को गति देने में बेहतर समन्वय से कार्य करें विभाग : मुख्यमंत्री

  • : वीरभद्र सिंह ने दिया किसानों से बे-मौसमी सब्जियों की पैदावार पर बल
  • : मुख्यमंत्री ने किया शिमला के चायली में 25 लाख रुपये की लागत से निर्मित उठाऊ सिंचाई योजना का लोकार्पण
  • : वीरभद्र सिंह ने की राजकीय माध्यमिक पाठशाला चायली को उच्च पाठशाला तथा चायली के लिए पशु औषधालय घोषणाएं
  • : एम्बुलेंस सेवाओं के लिए टूटू-क्यार तथा चायली सड़क का कार्य शीघ्र पूरा करने की घोषणाएं
  • विक्रमादित्य सिंह ने किया स्थानीय पंचायत प्रतिनिधियों की मांगों का समर्थन
  • : ढली की सब्जी मण्डी के निर्माण का कार्य शीघ्र पूरा करने का किया आग्रह
  • कांग्रेस पार्टी कॉडर मजबूत व सम्बन्धित क्षेत्रों के विकास के लिए क्षेत्र के युवा एकजुट होकर करें कार्य
 वीरभद्र सिंह ने दिया किसानों से बे-मौसमी सब्जियों की पैदावार पर बल

वीरभद्र सिंह ने दिया किसानों से बे-मौसमी सब्जियों की पैदावार पर बल

शिमला: मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कहा कि विकास को और गति देने व निर्माण कार्यों को निर्धारित समयावधि में पूरा करने के लिए लोक निर्माण विभाग, विद्युत बोर्ड, सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य, कृषि और बागवानी विभागों को बेहतर समन्वय स्थापित करने की आवश्यकता है, जिससे इनका लाभ लोगों को समय पर मिल सके।

मुख्यमंत्री आज शिमला ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र के चायली में एक जनसभा को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि विकास कार्यों के समय पर पूरा होने से जहां पैसे की बचत होती है वहां समय भी बचता है। उन्होंने कहा कि वन मण्डलाधिकारियों को वन स्वीकृति अधिनियम में एक हेक्टेयर में विकास गतिविधियां कार्यान्वित करने के लिए शक्तियां प्रदान की गई हैं। इसलिए उन्हें चाहिए कि वह एक हेक्टेयर तक वन स्वीकृतियां देने में अनावश्यक विलम्ब न करें। क्योंकि, इसके कारण अनेक सड़क व सिंचाई योजनाएं लम्बित पड़ी हैं।

वीरभद्र सिंह ने किसानों से बे-मौसमी सब्जियों की पैदावार पर बल दिया ताकि उन्हें इसके अच्छे दाम मिल सकें। उन्होंने कहा कि विकास गतिविधियों के लिए धन की कोई कमी नहीं है और उन्होंने आशा जताई कि केन्द्रीय प्रायोजित योजनाओं की राशि को केंद्र सरकार तुरंत जारी करेगी।

इससे पूर्व, मुख्यमंत्री ने शिमला के चायली में 25 लाख रुपये की लागत से निर्मित उठाऊ सिंचाई योजना का लोकार्पण किया। यह योजना क्षेत्र के 800 परिवारों की सिंचाई जरूरतों को पूरा करेगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले तीन वर्षों के दौरान शिमला ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र में 6.77 करोड़ रुपये की लागत से सिंचाई एवं पेयजल आपूर्ति की 14 योजनाएं पूरी की गई हैं, जबकि 25 योजनाओं का निर्माण कार्य प्रगति पर है। इन पर 114 करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं। इसके अतिरिक्त, धामी के समीप 105 करोड़ रुपये की गरोड़-घंडल उठाऊ पेयजल आपूर्ति योजना, जो क्षेत्र की 39 पंचायतों को सुविधा प्रदान करेगी, का कार्य प्रगति पर है। शिमला ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र में ऐसी नौ और योजनाएं प्रस्तावित हैं, जिनपर 63 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे।

वीरभद्र सिंह ने राजकीय माध्यमिक पाठशाला चायली को उच्च पाठशाला तथा चायली के लिए पशु औषधालय की घोषणाएं की। उन्होंने एम्बुलेंस सेवाओं के लिए टूटू-क्यार तथा चायली सड़क का कार्य शीघ्र पूरा करने तथा इन सड़कों का लोक निर्माण विभाग द्वारा रखरखाव एवं मुरम्मत के लिए अपनाने की घोषणा भी की।

  • विक्रमादित्य सिंह ने किया कांग्रेस पार्टी कॉडर को मजबूत करने व सम्बन्धित क्षेत्रों के विकास के लिए क्षेत्र के युवाओं से एकजुट होकर कार्य करने का आग्रह

युवा कांग्रेस के अध्यक्ष विक्रमादित्य सिंह ने स्थानीय पंचायत प्रतिनिधियों की मांगों का समर्थन किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार हर क्षेत्र का समान एवं संतुलित विकास सुनिश्चित बना रही है। उन्होंने कहा कि शिमला ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र में स्वास्थ्य अधोसरंचना को सुदृढ़ किया जा रहा है और पेयजल व सिंचाई की आवश्यकताओं को भी पूरा किया जा रहा है। उन्होंने ढली की सब्जी मण्डी के निर्माण का कार्य शीघ्र पूरा करने का आग्रह किया। उन्होंने कांग्रेस पार्टी कॉडर को मजबूत करने तथा सम्बन्धित क्षेत्रों के विकास के लिए क्षेत्र के युवाओं को एकजुट होकर कार्य करने का आग्रह किया।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *