प्रदेश व राष्ट्रीय मुद्दा

“कोरोना” को हराने के लिए देश के हर नागरिक को ईमानदारी से निभानी होगी अपनी जिम्मेदारी

“कोरोना” को हराने के लिए देश के हर नागरिक को ईमानदारी से निभानी होगी अपनी जिम्मेदारी

कोरोना की लड़ाई में हम कितने सहयोगी हैं इस सवाल का जवाब हमारी अंतर्रात्मा से बेहतर कोई नहीं जान सकता..! खुद हम कितने मुस्तैदी से प्रशासन और सरकार के साथ खड़े हैं…! प्रशासन और सरकार अपना काम कर...

हिमाचल में शाम सात बजे से सुबह सात बजे तक बाहरी राज्यों से आने वाले लोगों की नहीं होगी एंट्री

कोरोना : बहुत से देशों को संभलने का मौका नहीं मिला, हमें मिला है…”हमें कुछ नहीं हो सकता” ऐसे आडंबर, अहंकार और मज़ाक को छोड़ दीजिए!  प्रशासन और सरकार के सहयोगी बनें 

जरूरत है हमें समय रहते सजग होने की जीवन सभी का बहुत अनमोल है। इस वक्त पूरा विश्व कोरोना वायरस की महामारी से जूझ रहा है। इस महामारी ने पूरी दुनिया को हिला कर रख दिया है। आए दिन बढ़ते मौत के आंकड़े...

Coronavirus Update: प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव के एक ही दिन में 18 नए मामले 

कोरोना : संयम बरतें और सचेत रहें, सरकार तथा प्रशासन के आदेशों का गंभीरता से करें पालन

रखें… सामाजिक दूरी (सोशल डिस्टेंस) कोरोना वायरस का खौफ विश्वभर में देखा जा रहा है। कोरोना से होने वाली मौत के आंकड़े बताते हैं कि ये वाकये ही गंभीर और खतरनाक संक्रमण है। इसके प्रसार को रोकने...

क्यों जल उठी "दिल्ली"? बरसों साथ रहते “इंसान” अचानक बन गए "हिंदू-मुसलमान" 

क्यों जल उठी “दिल्ली”? बरसों साथ रहते “इंसान” अचानक बन गए “हिंदू-मुसलमान” 

…क्यों दहक उठी “दिल्ली” ? दिल्ली की हिंसा अचानक तो नहीं हुई…! सवाल..! आखिर बसे बसाये शहर को उजाड़ने वाले दंगाई कौन थे? किसकी साजिश थी? दिल्ली में नागरिकता संशोधन एक्ट के नाम पर हुई हिंसा की...

एक तरफ महिला सशक्तिकरण तो दूसरी ओर महिलाओं पर देश की लचर कानून व्यवस्था भारी

एक तरफ महिला सशक्तिकरण तो दूसरी ओर महिलाओं पर देश की लचर कानून व्यवस्था भारी

…आज जो हुआ है वह मिसाल, ऐसे अपराधियों का अंजाम यही होना चाहिए आम आदमी की सुरक्षा का जिम्मा हर पुलिस की नैतिक जिम्मेदारी इस प्रकार के मामलों में हर राज्य की पुलिस को तेलंगाना पुलिस से सीख लेने...

क्या देश की लचर कानून व्यवस्था के चलते बेटियां सुरिक्षत नहीं...?

क्या देश की लचर कानून व्यवस्था के चलते बेटियां सुरिक्षत नहीं…?

क्या देश की लचर कानून व्यवस्था के चलते बेटियां सुरिक्षत नहीं…? हमारे देश की कानून व्यवस्था महिलाओं की सुरक्षा के प्रति गंभीर क्यों नहीं है? इस प्रकार की घटनाओं को अंजाम देने वालों के लिए...

कौन सुनेगा किसको सुनाएं इसलिए.....आवाज उठाएं सबको बताएं!

“आम आदमी”….!!

ये समस्याएं आज नहीं पनपी वर्षों पुरानी हैं…. अपने घरों की नींव तो मजबूत कर ली परन्तु कुछ आम आदमी के कच्चे घरों को ढहा दिया …जो ईमानदार, नेक, निर्भीक, और बेदाग छवि का नेता व अधिकारी होगा वो आपकी...