धर्म/ संस्कृति

"गणेशोत्सव"......गणेश जी को संकट हरता क्यूँ कहा गया ?

“गणेशोत्सव”……गणेश जी को संकट हरता क्यूँ कहा गया?

 आज भाद्रपद शुक्ल चतुर्थी पर देशभर में पूरी श्रद्धा और भक्ति के साथ गणेश चतुर्थी का त्यौहार मनाया जा रहा है। कोरोना महामारी की वजह से इस बार गणेश पूजा कार्यक्रम बड़े स्तर पर नहीं हो रहे। लोग...

कटने के बाद कहां गया "गणेश जी" का असली मस्तक

“गणेश जी” का असली मस्तक कहां गया?

भगवान गणेश गजमुख, गजानन के नाम से जाने जाते हैं, क्योंकि उनका मुख गज यानी हाथी का है। भगवान गणेश का यह स्वरूप विलक्षण और बड़ा ही मंगलकारी है। आपने भी श्रीगणेश के गजानन बनने से जुड़े पौराणिक...

“पत्थर चौथ” में ना देखे चाँद .... गाथा है पुराणों में

“पत्थर चौथ” में ना देखे चाँद …. गाथा है पुराणों में

“पत्थर चौथ” में दिख जाए चाँद तो…. सुनें यह कथा…. हिमाचल के कई जगहों में पत्थर चौथ को मनाया जाता है लेकिन बिलासपुर में इसे विशेष रूप से मनाया जाता है। हालांकि पत्थर चौथ आधुनिकता की चकाचौंध...

माखनचोर कान्हा के जन्मोत्सव की धूम... श्रीकृष्ण का अवतरण होते ही वसुदेव–देवकी की खुल गईं बेड़ियाँ

जब…श्रीकृष्ण का अवतरण होते ही वसुदेव–देवकी की खुल गईं बेड़ियाँ

कृष्ण जन्माष्टमी भगवान श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव की तैयारियां पूरे जोर-शोर से कई दिनों से की जा रही हैं क्योंकि भगवान श्रीकृष्ण को भगवान विष्णु का आठवां अवतार माना जाता है। उनकी बाल लीलाओं से...

“जन्माष्टमी” जानें पूजा का शुभ मुहूर्त और कैसे करें भगवान कृष्ण की कृपा प्राप्त : कालयोगी आचार्य महिंद्र शर्मा

“जन्माष्टमी” जानें पूजा का शुभ मुहूर्त और कैसे प्राप्त करें भगवान कृष्ण की कृपा : कालयोगी आचार्य महिंद्र कृष्ण शर्मा

हर साल भाद्रपद के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को कृष्ण जन्माष्टमी का त्यौहार मनाया जाता है। इस साल यह त्यौहार 11-12 अगस्त अर्थात दो दिन मनाया जाएगा। कालयोगी आचार्य महिंद्र कृष्ण शर्मा ने जानकारी...

रक्षा बंधन की पौरणिक कथाएं व राखी बांधने के शुभ मुहूर्त : कालयोगी आचार्य महिंदर कृष्ण शर्मा

रक्षा बंधन की पौरणिक कथाएं ….

रक्षा बंधन के त्योहार का इंतज़ार हर बहन को बेसब्री से होता है। लेकिन भाई को भी बहन से राखी बंधवाने का उतना ही इंतज़ार होता है। भाई-बहन का पावन त्योहार जहाँ बचपन से लेकर उम्र भर के हर पड़ाव में...

भाई-बहन के प्यार और सदभावना से भरा त्यौहार "रक्षाबन्धन"

भाई-बहन के प्यार और सदभावना से भरा त्यौहार “रक्षाबन्धन”

प्राचीन काल से चल आ रहे त्यौहारों में से एक बहुत ही आर्दश प्रेम प्रतीकण् सद्भावनों से भरा हुआ त्यौहार रक्षाबन्धन माना गया है। कच्चे धागा का बन्धन समाज के लोगों में एक आदर्श प्रस्तुत करता है।...