ताज़ा समाचार

धर्म व संस्कृति

नाम के साथ ‘नेगी’ (उपनाम) जोड़ने में गर्व महसूस करते हैं किन्नौरे

नाम के साथ ‘नेगी’ (उपनाम) जोड़ने में गर्व महसूस करते हैं किन्नौर के लोग

किन्नौर में किन्नर कैलाश की बहुत महत्ता मान्यता : किन्नर कैलाश केवल भगवान शिव का ही निवास स्थान नहीं, बल्कि यहां पर स्वर्ग का राज है “किन्नौर”  शिव की धरती से जहां विख्यात है वहीं किन्नौर...

चन्द्रग्रहण : ग्रहण समाप्त होने के बाद कर सकते हैं दान

चन्द्रग्रहण : ग्रहण समाप्त होने के बाद भी कर सकते हैं… दान

माघ पूर्णिमा का दिन शास्त्रों में दान पुण्य और पूजन के लिए बहुत ही खास माना गया है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन किए गए दान पुण्य से मोक्ष का द्वार खुलता है। लेकिन इस साल माघ पूर्णिमा जो 31 जनवरी को...

मनाली के देवदार जंगलों में बसा पैगोडा शैली का कलात्मक मंदिर "हिडिम्बा"

मनाली के देवदार जंगलों में बसा पैगोडा शैली का कलात्मक मंदिर “हिडिम्बा”

हिडिम्बा को कहा जाता है ढूंगरी देवी हिडिम्बा को राजपरिवार मानता है अपनी दादी हिडिम्बा मंदिर के बारे में हमने बहुत कुछ पढ़ा व सुना है। वास्तव में खुद वहां जाकर एक अद्भुत् अनुभूति  का जो अनुभव...

"श्री रघुनाथ" मन्दिर कुल्लू का इतिहास

“श्री रघुनाथ” मन्दिर कुल्लू का इतिहास

श्री रघुनाथ मन्दिर मंदिर की विशेषता, भगवान रघुनाथ जी के विषय में जानकारी आज भी जगतसिंह के वंशज का बड़ा सुपुत्र श्री रघुनाथ जी का छड़ीदार हिमाचल देवभूमि है। यहां पर अनेकों देवी-देवताओं का वास...

"ठियोग उत्सव" प्राचीनतम उत्सव

“ठियोग उत्सव”

शिमला: मेले व त्यौहार हमारी समृद्ध संस्कृति के परिचायक हैं। पहाड़ी क्षेत्रों में मेले जहां देव आस्था का प्रतीक हैं, वहीं आपसी सदभाव और सांस्कृतिक धरोहर को संजोए रखने के लिए भी अहम भूमिका...

प्राकृतिक सौंदर्य से लबालब रामपुर का "सराहन"

रामपुर का “सराहन”

हिमाचल प्राकृतिक सौंदर्य से लबालब है। खूबसूरत हरी-भरी वादियां, ऊंची-ऊंची पहड़ियां। हर तरफ प्रकृति के अद्भुत् व मनमोहक नजारे।  ऐसा ही रामपुर तहसील के बशलकण्डा, थारलूधार, कण्डीधार एवं...

गद्दी जनजाति की वेशभूषा व आभूषण प्रियता बड़ी मनोहर

गद्दी जनजाति की वेशभूषा व आभूषण प्रियता

धरोहर बन रही परिधान-आभूषण प्रियता गद्दी जनजाति की वेशभूषा तथा आभूषण प्रियता बड़ी मनोहर रही है। प्राय: बड़े शौक से पहनतीं महिलाएं लुआंचड़ी, चोली, कुरती, सुत्थण, सलवार, मोछड़, डोरा यानि गात्री।...