हिम धरोहर व इतिहास

आधुनिकता भरे माहौल में आज भी परंपरागत गहनों को सजीव रखे ... किन्नौरी महिलाओं का श्रृंगार

किन्नौरी महिलाओं का परंपरागत श्रृंगार

आधुनिकता भरे माहौल में आज भी परंपरागत गहनों को सजीव रखे … किन्नौरी महिलाओं का श्रृंगार सिर से पांव तक गहनों से लदी किन्नौरी महिलाओं का श्रृंगार इनकी संस्कृति की सजीवता का प्रतीक  हिमाचल के...

हिमाचल "बौद्ध धर्म" इतिहास, गलेशियर में छिपी नदी की तरह

हिमाचल “बौद्ध धर्म”

हिमाचल प्रदेश में बौद्ध धर्म की इतिहासिक श्रृंखला साक्ष्य के अभाव में बहुत अस्पष्ट है। चीनी यात्री ह्यूनत्सांग ने ने जो बौद्धमठ कुल्लू और कांगड़ा में देखे, उनके अवशेष अब विद्यमान नहीं हैं,...

देवी-देवताओं के महासंगम का गवाह बनता है कुल्लू दशहरा

देवी-देवताओं के महासंगम का गवाह : कुल्लू दशहरा

कुल्लू के दशहरे का अपना इतिहास, पृष्ठभूमि व सांस्कृतिक परम्परा कुल्लू में दशहरे का शुभारंभ 17वीं शताब्दी में हुआ देश भर में मनाया जाने वाला दशहरा पर्व जहां आसुरी शक्तियों पर दैवी शक्तियों की...

चम्बा के जनजातीय क्षेत्र : चम्बा से भरमौर तक शिवपुरी

चम्बा के जनजातीय क्षेत्र : चम्बा से भरमौर तक शिवपुरी

चम्बा से भरमौर तक के क्षेत्र को शिवपुरी कहा गया है। चम्बा के तीस किलोमीटर आगे रावी के दाएं किनारे गूं कोठी के शिव मंदिर के शिलालेख (मेरुवर्मन 680 ई.) में इस मंदिर को शिवपुरी के मध्य स्थित माना है।...

बौद्ध धर्म के पुनरूत्थान के सम्बंध में गुगे राज्य का अभूतपूर्व योगदान

“लामा धर्म” आज भी अपनी ख्याति के साथ विद्यमान

तिब्बत, हिमाचल प्रदेश के जनजातीय जिलों किन्नौर तथा लाहुल-स्पिति में बौद्ध धर्म अपनी विलक्षणता के साथ विद्यमान है। गेरूआ वस्त्र पहने लामा, ऊंचाईयों में स्थित बौद्ध मठ, आकर्षक मूर्तियां व...

आईआईटीएम में हिमाचल को मिला ‘वैलनेस डैस्टिनेशन ऑफ द ईयर’ अवार्ड

ऐतिहासिक, पारम्परिक व सांस्कृतिक पहचान दर्शाती चौपाल की “वेशभूषा”

देश की बात हो या प्रदेश की उसकी जीवन शैली की पहचान वहां के रहने वाले लोगों, वेशभूषा, खानपान व आभूषणों से होती है। हांलाकि काफी समय से हमारे कई पारम्परिक परिधान और आभूषण लुप्त होते जा रहे हैं।...

रामपुर बुशहर में स्थित तिब्बतीयन शैली में निर्मित दुम्ग्युर नामक बौद्ध मंदिर

रामपुर बुशहर में स्थित तिब्बतीयन शैली में निर्मित दुम्ग्युर बौद्ध मंदिर

बुशहर रियासत के टीका रघुनाथ सिंह ने सन 1895 ई. को स्थापित करवाया शिमला जिला के रामपुर उपमंडल में समुद्रतल से 1000 मीटर की ऊंचाई पर बौद्ध मंदिर रामपुर बस स्टैंड के पास स्थित है। रामपुर में तिब्बतीयन...